Home विचार राहुल गांधी के आदेश से हिंदुओं को ‘आतंकवादी’ बता रहे कांग्रेसी

राहुल गांधी के आदेश से हिंदुओं को ‘आतंकवादी’ बता रहे कांग्रेसी

408
SHARE

हाल के घटनाक्रम पर नजर डालें तो कांग्रेस फिर से मुस्लिम परस्ती और हिंदू विरोध की राजनीति पर उतर आई है। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर 13 जुलाई को हिंदुओं को कट्टर और आतंकी कहा है। 

गौरतलब है कि इससे पहले भी दिग्विजय सिंह ने हिंदुओं को आतंकी बताया था। ये वही हैं जो हाफिज सईद और ओसामा बिन लादेन को सम्मान दे चुके हैं। ये वही हैं जिन्होंने आतंकी जाकिर नाइक को शांतिदूत बताया था। ये वही हैं जिन्होंने चार मौकों पर हिंदुओं को आतंकवादी कहा है। 
इसी तरह 11 जुलाई को कांग्रेस के ही अन्य नेता और सांसद शशि थरूर ने भी हिंदुओं को कट्टर बताते हुए भारत के ‘हिंदू पाकिस्तान’ बन जाने का खतरा बताया था।

दरअसल यह सब एक सोची समझी रणनीति के तहत किया जा रहा है। माना जा रहा है कि ऐसा राहुल गांधी के कहने पर किया जा रहा है। जाहिर है सवाल उठेंगे कि ऐसा क्यों?

तो जरा नवंबर-दिसंबर 2017 का वक्त याद कीजिये… कैसे राहुल गांधी गुजरात चुनाव के दौरान मंदिर-मंदिर घूम रहे थे।
अप्रैल-मई 2018 के कर्नाटक को जेहन में ले आइये… कैसे राहुल गांधी मस्जिदों के दौरे पर दौरे कर रहे थे।

हालांकि इसके समानांतर हिंदुओं को आपस में बांटने की साजिश भी चल रही थी। गुजरात में अल्पेश, जिग्नेश और हार्दिक नाम के युवकों को जाति के नाम पर अलग किया गया और हिंदू समाज को विभाजित किया गया।

इसी तरह कर्नाटक में लिंगायत को अलग धर्म का दर्जा दिया गया और वीरशैव समुदाय को अल्पसंख्यक का दर्जा दे दिया गया। यह भी हिंदुओं को विभाजित करने की कांग्रेस की रणनीति थी।

जाहिर है हिंदुओं को बांटने के बाद कांग्रेस मुस्लिमों को रिझाने में लग गई है ताकि उनका एकमुश्त वोट कांग्रेस को मिले।

इसके लिए कांग्रेस तमाम तिकड़म भी कर रही है। मुस्लिम बुद्धिजीवियों से मिलने के बाद अब वह हिंदुओं को ‘गाली’ देने पर उतर आई है ताकि मुस्लिम वोट बैंक को खुश किया जा सके।

दरअसल कांग्रेस के जीन में हिंदू विरोध और मुस्लिम प्रेम है। पार्टी की परंपरा भी हमेशा हिंदुओं को नीचा दिखाने की रही है। जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, सोनिया गांधी के बाद अब राहुल गांधी भी यही कर रहे हैं।

हमारे सामने ऐसे कई उदाहरण हैं जब कांग्रेस ने मुस्लिम परस्ती में हिंदुओं को बदनाम करने की साजिश रची।

कांग्रेस नेताओं ने साजिश के तहत गढ़ा ‘हिंदू आतंकवाद’
वर्ष 2007 में हैदराबाद के मक्का मस्जिद में बम विस्फोट हुआ था। इस मामले में स्थानीय पुलिस ने आतंकी संगठन हूजी से जुड़े वकार अहमद और बिलाल गिरफ्तार किया, लेकिन उन्हें छोड़ दिया गया। इसी वर्ष समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट हुआ जिसमें पाकिस्तानी नागरिक आरिफ कास्मानी समेत दो आरोपियों को पकड़ा गया, लेकिन दिल्ली के निर्देश पर उसे भी छोड़ दिया गया। इसके बाद देश में हिंदुओं को बदनाम करने की एक साजिश रची गई और नाम दिया गया ‘भगवा आतंकवाद’ या ‘हिंदू आतंकवाद’!

हिंदू आतंकवाद ज्यादा बड़ा खतरा – राहुल गांधी
26/11 के मुंबई आतंकवादी हमले के दो वर्ष बाद 2010 में अमेरिका की विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन भारत के दौरे पर थीं। तत्कालीन पीएम मनमोहन सिंह के साथ लंच के दौरान अमेरिका के राजदूत टिमोथी रोमर ने राहुल गांधी से पूछा कि वह ‘लश्कर-ए-तैयबा’ के बारे में क्या सोचते हैं। इस पर राहुल ने कहा, ‘’एलईटी को भूल जाइए, इस देश का हिंदू आतंकवाद ज्यादा बड़ा खतरा है।‘’ बाद में यह बातचीत लीक हो गई और लंदन के अखबार द गार्जियन ने इसे प्रकाशित किया।

आतंकवादियों के लिए सोनिया गांधी के निकले आंसू
सितंबर 19, 2008 को दिल्ली के जामिया नगर इलाके में मुठभेड़ हुई। इंडियन मुजाहिदीन के दो आतंकवादी मारे गए। दो अन्य भाग गए, जबकि जीशान को गिरफ्तार कर लिया गया। इस मुठभेड़ में दिल्ली पुलिस निरीक्षक मोहन चंद शर्मा शहीद हो गए। हालांकि कांग्रेस ने इसे फर्जी बताने की पूरी कोशिश की। 2012 में यूपी चुनाव के दौरान सलमान खुर्शीद ने मुसलमानों से कहा, “आपके दर्द से वाकिफ हूं। जब बाटला हाउस कांड की तस्वीर सोनिया गांधी को दिखाई थी। तस्वीरें देखकर उनकी आंखों में आंसू आ गए थे।”

मुंबई हमले में RSS को फंसाने की रची गई साजिश
वर्ष 2008 में 26/11 को मुंबई हमले को भी आरएसएस द्वारा हमले के रूप में न केवल प्रचारित किया गया, बल्कि इस पर एक पुस्तक भी लिखी गई। इसका लोकार्पण भी दिग्विजय सिंह ने किया था। हालांकि 13 मई, 2018 को पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने यह स्वीकार किया कि 2008 में हुए मुंबई आतंकी हमले में पाकिस्तानी आतंकियों का हाथ था। आरोप है कि तत्कालीन गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे, कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह, सोनिया गांधी, अहमद पटेल और राहुल गांधी ने मिलकर ‘हिंदू आतंकवाद’ की अवधारणा गढ़ी थी और उसे साबित करने का हर तरह का प्रयास किया था।

पूर्व अवर सचिव आरवीएस मणि ने खोला साजिश का चिट्ठा
यूपीए सरकार के दौरान गृह मंत्रालय में अवर सचिव रहे आरवीएस मणि ने कहा, ‘’हिंदू आतंक के नाम पर सरकारी संसाधनों का उपयोग करके तत्कालीन केंद्र सरकार ने असली आतंकवादियों को बचाया। राजनीतिक एजेंडे को नहीं जानता, लेकिन देश में कोई हिंदू आतंक नहीं है।‘’ उन्होंने कहा कि मेरी पुस्तक- ‘Hindu Terror-Insider account of Ministry of Home Affairs 2006-2010’ स्पष्ट रूप से बताती है कि कैसे दिग्विजय सिंह ने हिंदू आतंक शब्द की नींव रखी और इसे फैलाया।

आजादी के बाद से कांग्रेस के कृत्यों पर गौर करें तो ये साफ है कि कांग्रेस पार्टी हिंदू विरोधी और मुस्लिम परस्त रही है। आइये इसे तथ्यों के आईने में देखते हैं

हिंदू राष्ट्र का विरोध
बाबा साहब अम्बेडकर की पुस्तक- ‘दि डिक्लाइन एंड फाल आफ बुद्धिज्म’ में स्पष्ट है कि पं नेहरू ने कहा था, ”हिंदू राष्ट्र का केवल एक ही मतलब है, आधुनिक सोच को पीछे छोड़ना, संकीर्ण होकर पुराने तरीके से सोचना और भारत का टुकड़ों में बंटना।’’
यहां यह बताना आवश्यक है कि बाबा साहब की प्रबल इच्छा थी कि जब धर्म के आधार पर देश का बंटवारा हुआ है तो सारे मुस्लिम पाकिस्तान चले जाएं, लेकिन नेहरू ने अपनी मुस्लिम राजनीति के कारण ऐसा नहीं होने दिया।

जब बाबा साहब ने दिया इस्तीफा
बाबा साहब अम्बेडकर ने जब संविधान में समान नागरिक संहिता लागू करने की बात कही तो मुस्लिम तुष्टिकरण के लिए पंडित नेहरू ने इसका विरोध किया। बाबा साहब ने नेहरू की इसी मुस्लिम परस्ती से तंग आकर 27 सितंबर 1951 को संसद से इस्तीफा दे दिया।

वंदे मातरम का विरोध
आजादी के बाद यह तय था कि वंदे मातरम राष्ट्रगान होगा, लेकिन जवाहरलाल नेहरू ने इसका विरोध किया और कहा कि वंदे मातरम से मुसलमानों के दिल को ठेस पहुंचेगी।

मंदिर पुनर्निमाण का विरोध
हिंदुओं के सबसे अहम मंदिरों में से एक सोमनाथ मंदिर को दोबारा बनाने का जवाहरलाल नेहरू ने विरोध किया था। उन्होंने कहा था कि सरकारी खजाने का पैसा मंदिरों पर खर्च नहीं होना चाहिए। दरअसल उन्हें डर था कि इससे मुस्लिमों में नाराजगी बढ़ेगी।

नसबंदी में हिंदुओं की हानि
आपातकाल के दौरान 1975 में इंदिरा गांधी के कार्यकाल में नसबंदी अभियान शुरू किया गया। मुस्लिमों के विरोध के कारण यह अभियान सफल नहीं हुआ, लेकिन इसका नुकसान हिंदुओं को उठाना पड़ा। दरअसल अधिकारियों को महीने के हिसाब से टारगेट दिए गए और उनकी रोज समीक्षा होने लगी। इसको पूरा करने के लिए अधिकारियों ने करोड़ों हिंदुओं की ही नसबंदी कर दी जबकि मुस्लिम आबादी बढ़ती रही।

बदल डाला देश का कानून
वर्ष 1987 सुप्रीम कोर्ट ने तलाकशुदा शाहबानो के फेवर में अपना फैसला देते हुए पति को गुजारा भत्ता देने का आदेश दिया, लेकिन मुस्लिमों ने पर्सलन लॉ में दखल कहा और विरोध किया। तत्कालीन राजीव गांधी सरकार ने मुस्लिम वोट बैंक को बचाने के लिए पर्सलन लॉ में कोर्ट के दखल को न सिर्फ गलत ठहराया, बल्कि संसद से एक कानून भी पास करा लिया।

हिंदुओं पर गोलियां चलवाईं
1990 में अपने मुख्यमंत्रित्व काल में समाजवादी पार्टी के मुख्यमंत्री मुलायम सिंह ने हिंदू कारसेवकों पर गोलियां चलवाईं, उसमें 28 हिंदू लोग मारे गए। कहा जाता है कि मुलायम सिंह की इस हरकत के पीछे भी कांग्रेस का हाथ ही नहीं दिमाग भी था।

गोधरा नरसंहार पर राजनीति
27 फरवरी, 2002 को गुजरात के गोधरा स्टेशन पर मुस्लिमों ने 59 कार सेवकों को जिंदा जला दिया। कांग्रेस ने इसके बाद हुए दंगे को आधार बनाकर खूब राजनीति की और 2004 में केंद्र की सत्ता पर काबिज हो गई। गोधरा कांड के दोषियों को छोड़ दिया गया और उनके विरुद्ध केस कमजोर कर दिए गए। कांग्रेस की इसी करस्तानी के कारण मुख्य आरोपी मौलाना उमर को रिहा कर दिया गया।

मुस्लिम आरक्षण की मांग
वर्ष 2004 के चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने अपने घोषणापत्र में मुसलमानों को आरक्षण दिलाने का वादा किया था। इसी आधार पर चलते हुए तेलंगाना की टीएसआर सरकार ने मुस्लिमों को आरक्षण दे दिया। कांग्रेस आरक्षण का दायरा पूरे देश में फैलाना चाहती है जबकि धर्म के आधार पर हमारे संविधान में आरक्षण का प्रावधान नहीं है।

जयेंद्र सरस्वती को जेल
कांचीपुरम के वरदराजपेरुमल मंदिर के प्रबंधक शंकररामण की हत्या  3 सितंबर 2004 को कर दी गई थी। इस हत्याकांड में कांचि कामपीठ के शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती को प्रमुख आरोपी बनाया गया था। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने अपनी किताब ‘द कोलिशन इयर्स’ में खुलासा किया है कि सोनिया गांधी ने ऐसा हिंदुओं को नीचा दिखाने और मुस्लिमों की तुष्टिकरण के लिए किया है। 

मुस्लिमों का पहला हक
10 दिसंबर, 2006 को तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने राष्ट्रीय विकास परिषद में भाषण के दौरान कहा कि देश के संसाधनों पर पहला हक मुसलमानों का है। अपनी मुस्लिम परस्ती और देश को तोड़ने वाली हरकत के लिए कांग्रेस ने आज तक माफी नहीं मांगी।

भगवा आतंकवाद की साजिश
18 फरवरी, 2007 को समझौता एक्सप्रेस में ब्लास्ट केस में दो पाकिस्तानी मुस्लिम आतंकवादियों को पकड़ा गया था, उसने अपना गुनाह भी कबूल किया था, लेकिन महज 14 दिनों में उसे चुपचाप छोड़ दिया। इसके बाद इस केस में स्वामी असीमानंद को फंसाया गया ताकि भगवा आतंकवाद या हिन्दू आतंकवाद को अमली जामा पहनाया जा सके।

मुस्लिम नहीं, हिंदू खतरा
17 दिसंबर, 2010 को विकीलीक्स ने राहुल गांधी की अमेरिकी राजदूत टिमोथी रोमर से 20 जुलाई, 2009 को हुई बातचीत का एक ब्योरा दिया। राहुल ने अमेरिकी राजदूत से कहा था, ”भारत विरोधी मुस्लिम आतंकवादियों और वामपंथी आतंकवादियों से बड़ा खतरा देश के हिन्दू हैं।”

नमाज के लिए 90 मिनट
18 दिसंबर, 2016 को उत्तराखंड की कांग्रेस सरकार ने राज्य के मुस्लिम कर्मचारियों को शुक्रवार के दिन 90 मिनट का अतिरिक्त अवकाश देने का फैसला किया।

राम मंदिर निर्माण विरोध
1949 से अब तक राम मंदिर के मुद्दे पर कांग्रेस ने सिर्फ और सिर्फ राजनीति की है, जबकि देश की 85 प्रतिशत आबादी की इच्छा है कि जिस राम जन्मभूमि पर भगवान राम का जन्म हुआ है वहीं मंदिर का निर्माण हो।

सच्चर कमिटी का गठन
पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 2005 में दिल्ली हाइकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस राजिंदर सच्चर की अध्यक्षता में समिति गठित की थी। इसके पीछे भी मुस्लिम वोट बैंक को साधने के राजनीतिक निहितार्थ थे। इस कमेटी को लागू करने के बाद मुसलमानों को आरक्षण देने की साजिश रची गई थी।

मुजफ्फरनगर मुस्लिम प्रेम
16 सितंबर, 2013 को राहुल गांधी यूपी के मुजफ्फरनगर में दंगा पीड़ितों से मिलने पहुंचे। यहां उन्होंने मुस्लिम समुदाय के पीड़ितों से तो मुलाकात की परन्तु हिंदुओं से नहीं मिले।

कश्मीरी पंडितों पर खामोशी
1990 के दशक में हजारों कश्मीरी पंडितों को कश्मीर से भगा दिया गया, उनकी संपत्ति लूट ली गई, महिलाओं के साथ अत्याचार किया गया, लेकिन कांग्रेस ने इस मुद्दे पर आज तक कुछ नहीं कहा। न ही कश्मीरी पंडितों के पुनर्वास के लिए कुछ किया और न ही उन्हें मुआवजा ही दिया।

तीन तलाक और राम की तुलना
16 मई, 2016 को सुनवाई के दौरान कांग्रेस नेता और AIMPLB के वकील कपिल सिब्बल ने दलील दी कि जिस तरह राम हिंदुओं के लिए आस्था का सवाल है उसी तरह तीन तलाक और हलाला मुसलमानों की आस्था का मसला है। साफ है कि कांग्रेस और उसके नेतृत्व की हिंदुओं की प्रति उनकी सोच को ही दर्शाती है।

रामसेतु को तोड़ने का कांग्रेस का इरादा
कांग्रेस ने व्यावसायिक हित के लिए देश के करोड़ों हिंदुओं की आस्था पर कुठराघात करने की तैयारी कर ली थी। जिस राम सेतु के अस्तित्व को NASA ने भी स्वीकार किया है, जिस राम सेतु को अमेरिकी वैज्ञानिकों ने भी MAN MAID यानि मानव निर्मित माना है, उसे कांग्रेस पार्टी तोड़ने जा रही थी।

दरअसल हिंदुओं के इस देश में ही कांग्रेस पार्टी ने हिंदुओं को ही दोयम दर्जे का नागरिक बना दिया है। यही वजह रही कि वह एक अरब से अधिक हिंदुओं की आस्था पर आघात करने की तैयारी कर चुकी थी। कांग्रेस ने 2008 और 2013 में सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दिया था कि वह राम सेतु के अस्तित्व को नहीं मानती है। कांग्रेस ने यह भी कहा था कि सेतुसमुद्रम परियोजना पर लगभग 800 करोड रुपए वो खर्च कर चुकी है अतः इस परियोजना को बंद नहीं किया जा सकता। जाहिर है यह कुछ उसी तरह की करतूत थी जो बाबर ने रामलला के मंदिर को तोड़कर अयोध्या में विवादित ढांचा खड़ा किया था। 

LEAVE A REPLY