Home विचार अपने ही जाल में फंस चुका है पाकिस्तान, PoK को भारत में...

अपने ही जाल में फंस चुका है पाकिस्तान, PoK को भारत में शामिल करने की उठी मांग

2109
SHARE

पाकिस्तान ने लगभग सात दशकों से PoK पर अवैध कब्जा कर रखा है। लेकिन अब उसे भारत में शामिल करने की मांग उठने लगी है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इसके लिये तैयारियां भी शुरू कर दी गई हैं। इसके तहत मुस्लिम राष्ट्रीय मंच 14 अगस्त को देश के सभी राज्यों की राजधानियों में पाकिस्तान के खिलाफ विशेष प्रदर्शनों का आयोजन करेगा।

PoK को भारत में शामिल करने की मांग
मुस्लिम राष्ट्रीय मंच ने ऐलान किया है कि पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है इसीलिए इसे भारत में मिलाने का अभियान अब तेज किया जाएगा। मंच के अनुसार इसी के चलते राज्य विधानसभा की 24 और विधान परिषद की 6 सीटें अभी भी खाली रखे गये हैं, जो PoK के हिस्से की हैं। मंच अब अभियान के माध्यम से सरकार से मांग करेगा कि खाली पड़ी सीटों पर चुनाव कराकर अब इन सीटों को भर दिया जाय। इसके लिये सरकार को वहां के लोगों को भी देश के बाकी नागरिकों की तरह लोकतांत्रिक अधिकार देने के लिये कदम उठाने चाहिए।

PoK में मानवाधिकार हनन का मुद्दा उठेगा
पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में मानवाधिकार हनन का मुद्दा उठाने के लिये मुस्लिम राष्ट्रीय मंच 9 अगस्त से विशेष अभियान शुरू करेगा। कार्यक्रम के अनुसार 14 अगस्त को देशभर के राज्यों की राजधानियों में पाकिस्तानी झंडे जलाये जायेंगे। इसके माध्यम से ये संदेश देने की कोशिश की जायेगी कि अब भारत के लोग PoK में पाकिस्तान की बर्बरता चुपचाप नहीं सहेंगे।

एक राष्ट्र, एक झंडे की भी मांग
इतना ही नहीं, मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मुस्लिम राष्ट्रीय मंच ने जम्मू- कश्मीर के अलग झंडे को खत्म करने की मांग को भी जोर-शोर से उठाने का फैसला किया है। मंच का मानना है कि जब हमारा देश एक है तो पूरे देश के लिये झंडा भी सिर्फ तिरंगा ही होना चाहिए। इस मुहिम को भी 9 अगस्त यानी अगस्त क्रांति की वर्षगांठ से ही शुरू किया जायेगा।

PoK पर मोदी सरकार ने बदली है नीति
अभी हाल ही में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने साफ कर दिया था कि, PoK भारत का अभिन्न अंग है और वहां के लोगों को वीजा देने के लिये भारत को पाकिस्तानी सिफारिश की कोई आवश्यकता नहीं है। दरअसल PoK का एक बीमार छात्र 24 वर्षीय ओसामा अली उपचार के लिये भारत आना चाहता है, लेकिन पाकिस्तान इसमें अड़ंगेबाजी करना चाहता है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इससे पहले पीएमओ में राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह न केवल PoK के लोगों के साथ खड़े होने बल्कि वहां तिरंगा फहराने तक की बात कह चुके हैं। उनके अनुसार “जम्मू-कश्मीर भारत का अविभाज्य अंग है। समस्या सिर्फ गुलाम कश्मीर की है, उसे वापस लेना है, यही अंतिम हल है।”

पीएम मोदी भी दे चुके हैं सख्त संकेत
खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल 15 अगस्त को लालकिले से PoK में रहने वाले कश्मीरियों पर पाकिस्तानी सेना के अत्याचार का जिक्र करके अपना इरादा जाहिर कर दिया था। प्रधानमंत्री के इस भाषण के बाद से दुनियाभर में रहने वाले PoK,गिलगित-बाल्टिस्तान और बलूचिस्तान के लोग पीएम मोदी के मुरीद हो चुके हैं। इसके बाद से उन्होंने विश्व भर में पाकिस्तान के खिलाफ और भारत के समर्थन में प्रदर्शनों का दौर शुरू किया हुआ है।

Leave a Reply