Home समाचार पिछले 70 सालों में भारत-रूस संबंध लगातार मजबूत हुए-प्रधानमंत्री

पिछले 70 सालों में भारत-रूस संबंध लगातार मजबूत हुए-प्रधानमंत्री

1472
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूस के सेंट पीटर्सबर्ग में इंटरनेशनल इकोनॉमिक फोरम को संबोधित करते हुए भारत में बदलाव और आर्थिक प्रगति का परिदृश्य सबके सामने रखा। इस अवसर पर उन्होंने भारत और रूस के संबंधों में प्रगाढ़ता की बात करते हुए कहा कि विश्‍व में कई बदलाव आए हैं, लेकिन भारत और रूस के संबंध निरंतर बढ़ते गए हैं। पीएम मोदी ने कहा, ” भारत-रूस के संबंधों में ऊंचाई भी बढ़ी है, गहराई भी बढ़ी है और इसलिए मैं राष्‍ट्रपति व्लादिमीर पुत‍िन को बधाई देता हूं।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज पूरा विश्‍व का ध्‍यान स्‍वाभाविक रूप से एशिया की तरफ है तो स्‍वाभाविक रूप से यह ध्‍यान भारत की ओर जाना जरूरी है। ऐसे में दुनिया आज भारत की तरफ देख रही है। उन्होंने विदेशी निवेशकों को भारत में निवेश के लिए आमंत्रित करते हुए कहा कि एक जुलाई से भारत में जीएसटी लागू हो जाएगा और इसका लाभ देशभर को मिलेगा। उन्होंने कहा कि इसका लाभ विदेशी निवेशकों को भी बखूबी मिलेगा।

सबसे तेज गति से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत में तीस साल के बाद पूर्ण बहुमत की सरकार आने के बाद अर्थव्यवस्था को स्थिरता मिली है। उन्होंने कहा कि आज भारत का जीडीपी वार्षिक दृष्टि से 7% है और दुनिया की बड़ी अर्थव्‍यवस्‍था में तेज गत‍ि से बढ़ने वाली भारत की अर्थव्‍यवस्‍था है। पीएम मोदी ने कहा कि भारत तेज गति से बढ़ने वाली अर्थव्‍यवस्‍था है… यह भाव दुनिया की सभी एजेंसियों ने प्रकट किया है। उन्होंने कहा कि क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों ने कहा है कि एफडीआई के लिए भारत दुनिया में पहले तीन सबसे फेवरेट स्‍थानों में से है।

राजनीतिक स्थिरता से रिफॉर्म की संभावना
प्रधानमंत्री ने कहा कि यह निश्‍चित है जब राजनी‍तिक स्थिरता होती है, कलीयर विजन होता है तभी रिफॉर्म की संभावना बनती है। उन्होंने कहा कि
लोकतांत्रिक व्‍यवस्‍था में रिफॉर्म हो परफॉर्म हो और जनभागीदारी हो तो ट्रांस्‍फोर्मेशन होता है। पीएम मोदी ने कहा कि एक जुलाई से भारत में जीएसटी लागू हो जाएगा और इसका लाभ देशभर को मिलेगा। इसका लाभ विदेशी निवेशकों को भी बखूबी मिलेगा।


जीवन स्तर में बदलाव लाने की कोशिश
प्रधानमंत्री ने कहा कि विविधता भारत की ताकत और विशेषता है इसलिए भारत ने फाइनेंशियल इनक्‍लूजन पर बल दिया है। प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत हर देशवासी को बैंक से जोड़ा है। उन्होंने कहा कि हम जीवनस्‍तर पर बदलाव लाने के लिए सभी सरकारी लाभ गरीब को मिले, JAM यानी जनधन, आधार और मोबाइल के तहत इस दिशा में काम कर रहे हैं।

तीन साल में सात हजार नए रिफॉर्म
प्रधानमंत्री ने कहा कि मेरी सरकार को अभी 1100 दिन नहीं हुए, लेकिन अभी तक हमने 1200 से ज्‍यादा कानूनों को खत्‍म कर दिया, जिनकी आज के समय में कुछ जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने तीन साल के समय में 7 हजार ‘नए रिफॉर्म’ किए हैं।


न्यू इंडिया का सपना
प्रधानमंत्री ने कहा कि हम एक ऐसे देश हैं, जिसके पास 800 मिलियन 35 साल से नीचे की उम्र के नौजवान हैं। हिंदुस्‍तान आज एक युवा देश है। ऐसे में हम न्‍यू इंडिया का सपना लेकर ग्लोबल बेंचमार्क के साथ आगे बढ़ रहे हैं। दुनिया के रिक्वायरमेंट को पूरा करने वाले लोगों को आगे बढ़ाया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि समावेशी विकास की नीति के तहत हम डिजिटल इंडिया पर जोर दे रहे हैं। ये कोशिश की जा रही है कि डिजिटल डिवाइड की स्थिति न हो।

इंफ्रास्ट्रक्चर के विकासस पर बल
प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारे यहां विकास की अपार संभानाएं हैं, जिसके लिए निवेश की आवश्यकता है। उन्होंने निवेशकों को आमंत्रित करते हुए कहा कि हम इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास पर बल दे रहे हैं। 50 से ज्‍यादा शहरों में मेट्रो ट्रेन की आवश्‍यकता है और 500 शहरों का ट्रांस्‍फोर्मेशन की दिशा में हमें काम करना है। उन्होंने कहा कि रोजाना ढ़ाई करोड़ लोग भारत में रेल के डिब्‍बों में सफर करते हैं, इसे सुरक्षा की दृष्टि से अपग्रेड करना है। उन्होंने गंगा सफाई जैसे कार्यक्रमों में भी विदेशी निवेशकों के लिए संभावनाएं बताईं।


प्रकृति का शोषण अपराध
प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत हमेशा से पर्यावरण के प्रति संजीदा रहा है, ये हमारी परंपरा में है। उन्होंने कहा कि हमारे यहां पुरातन काल में अथर्वेद में ही पर्यावरण संरक्षण की बात कही गई है। उन्होंने कहा, ”Exploitation of nature is a crime.” पीएम मोदी ने कहा कि हम पर्यावरण की रक्षा की जिम्‍मेदारी को लेकर आगे बढ़ रहे हैं।

Leave a Reply