Home तीन साल बेमिसाल मोदी सरकार की नीतियों का कमाल, अनाज ही नहीं, फल-सब्जियों की भी...

मोदी सरकार की नीतियों का कमाल, अनाज ही नहीं, फल-सब्जियों की भी बंपर पैदावार

1671
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने न्यू इंडिया में किसानों की आय दोगुना करने का संकल्प लिया है। इसके लिए उन्होंने पिछले तीन साल में दिन-रात मेहनत की है। अच्छी बात ये है कि प्रधानमंत्री के इस संकल्प को लेकर लगातार अच्छे समाचार मिल रहे हैं। अंग्रेजी समाचार पत्र टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के अनुसार इस साल फल, सब्जियों, मसाले और फूलों की रिकॉर्ड पैदावार होने की संभावना है। इससे पहले देश में अनाजों का भी रिकॉर्ड पैदावार हो चुका है। किसी देश की खुशहाली के लिए आवश्यक है कि वहां का अन्नदाता प्रसन्न रहे। ऐसे में अगर लागतों में कमी आएगी और पैदावार बढ़ेगा तो देश के किसानों को खुश रहने से कौन रोक सकता है। 

बागबानी में बहार
ताजा आंकड़ों के अनुसार इस साल भारत में बागवानी से जुड़े उत्पादों का रिकॉर्ड पैदावार होने जा रहा है। इसमें फल, सब्जियां, फूल और औषधीय एवं सुगंधित उत्पाद भी शामिल हैं। अनुमानों के मुताबिक जून के महीने तक (2016-17) इन चीजों का उत्पादन 29.5 करोड़ टन रहने का अनुमान है, जो कि साल 2015-16 के मुकाबले 3.2 % अधिक है। इसमें फलों का उत्पादन पिछले साल के मुकाबलने 2.9% अधिक 9.3 करोड़ टन और सब्जियों का 3.5% अधिक यानी 17.5 करोड़ टन होने का अनुमान है।

फूल, सुगंधित एवं औषधीय पौधे और मसालों की बंपर फसल
कृषि मंत्रालय के अनुसार इस साल फूलों का उत्पादन पिछले साल की तुलना में 2.9% अधिक यानी 22 लाख टन रहने का अनुमान है। वहीं सुगंधित एवं औषधीय पौधों का उत्पादन .8% अधिक या 10.3 लाख टन रहने का अनुमान है। इनके अलावाा इस साल मसालों का उत्पादन में इस साल 71 लाख टन रहने का अनुमान है जो कि पिछले साल की तुलना में 1.3% अधिक है।

आलू,प्याज,टमाटर पर हाहाकार खत्म
सबसे बड़ी बात है कि बीते कुछ वर्षों में आलू, प्याज और टमाटर की कीमतों को लेकर बहुत हो-हल्ला मचाया जाता था। प्याज और टमाटर की कीमतों को कंट्रोल करना तो पहले कई बार असंभव सा हो चुका है। लेकिन मोदी सरकार ने जब से इन आवश्यक वस्तुओं के उत्पादन से लेकर वितरण तक पर ध्यान दिया है, पूरी तस्वीर ही बदल गई है। क्योंकि अब न तो आलू-टमाटर बेकाबू हो रहे हैं और न ही देश की आम जनता को प्याज के आंसू ही रोना पड़ रहा है। ये सब इसलिए हुआ है कि सरकार की नीतियों और अनुकूल मौसम के चलते इन सबके उत्पादन में बढ़ोत्तरी हुई है। जैसे इस साल 2.16 करोड़ टन प्याज के उत्पादन का अनुमान है, जो 2015-16 के मुकाबले 3% अधिक है। उसी तरह आलू का भी 7.2% की बढ़ोत्तरी के साथ 4.34 करोड़ टन उत्पादन का अनुमान है। यही नहीं टमाटर का भी उत्पादन पिछले साल के मुकाबले 5.1% अधिक यानी 1.97 करोड़ टन रहने का अनुमान है।

पूरे साल कीमतों पर नियंत्रण
ये मोदी सरकार की नीतियों का ही परिणाम है कि पूरे साल सब्जियों की कीमतों पर नियंत्रण रहता है। कई बार मौसम और स्थानीय कारणों से हरी सब्जियों की कीमतों में वृद्धि हो जाना स्वभाविक है। लेकिन, मोदी सरकार ने पिछले कुछ सालों में आलू, टमाटर और प्याज की कीमतों पर जिस तरह से नियंत्रण रखा है वो कोई मामूली बात नहीं है। नहीं तो हर साल प्याज और टमाटर की कीमतें इतनी बढ़ जाती थीं कि वो आम जनता की थाली तक पहुंच ही नहीं पाते थे। अब हालात बदल चुके हैं। पूरे साल में इन चीजों के दाम में कोई ज्यादा अंतर नहीं देखा जा रहा है। इसी तरह एक बार दाल की कीमतों में आई उछाल बहुत बड़ा राजनीतिक मुद्दा बना दिया गया था। तब जो मोदी सरकार ने एक्शन लेना शुरू किया उसका परिणाम आज भी देखने को मिल रहा है। अधिकतर दाल की कीमतें नियंत्रण में हैं और जमाखोरी की जिन वजहों से कीमतों में कृत्रिम उछाल लाने की कोशिश की गई थी, उन वजहों को दूर कर दिया गया है।

नोटबंदी के बावजूद बंपर पैदावार
पिछले साल 8 नवंबर को जब नोटबंदी की घोषणा हुई थी, रबी फसलों की बुवाई और खरीफ फसलों की कटाई का सीजन था। ये भ्रम फैलाने की कोशिश हुई कि नोटबंदी किसानों को तोड़कर रख देगा। वो बीज, खाद का इंतजाम कैसे करेंगे। लेकिन मोदी सरकार किसानों को किसी तरह की परेशानी नहीं हो… यह पहले से तय कर रखी थी। सरकार ने बीज और खाद की खरीद पुरानी करेंसी से करने की अनुमति दी थी। साथ टोल और पेट्रोल पंपों पर भी पुराने नोट चल रहे थे। यानी किसानों को न तो बीज खाद खरीदने में कोई परेशानी हुई और न ही बीज और खाद को खेतों तक पहुंचाने में। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इसबार धान और गेहूं की रिकॉर्ड उपज हुई है और अनाज का उत्पादन 27 करोड़ टन से अधिक रहने का अनुमान है।

किसानों को हो रहा है फायदा
बंपर फसल एक तरह से भारतीय किसानों की खुशहाली की गारंटी देता है। प्रधानमंत्री मोदी जी ने संकल्प लिया है कि 2022 तक देश के अन्नदाताओं की आय दोगुनी कर दी जाएगी। अभी जो देश में कृषि क्षेत्र के हालात बन रहे हैं, वो उसी दिशा में सरकार की ओर से किए जा रहे प्रयासों के नतीजे हैं।

मोदी सरकार की नीतियों का असर
मोदी सरकार जब से आई है किसानों की भलाई और उनकी आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए एक से बढ़कर एक कदम उठाई है। चाहे प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना हो, चाहे प्रधानमंत्री सिंचाई योजना हो या फिर SOIL HELTH CARD और PER DROP MORE CROP, सबने किसानों के जीवन में खुशहाली लाने का काम किया है। पीएम मोदी ने सरकार में आते ही नीम कोटेड यूरिया ही बाजार में उतारने का फैसला किया। इससे जहां यूरिया की चोरी रुकने से जनता के पैसे बचने शुरू हो गए। वहीं किसानों की फसलों की पैदावार में भी अच्छा-खासा इजाफा हो गया। 

प्रधानमंत्री हमेशा कहते हैं कि देश में अब सेकंड ग्रीन रिवॉल्युशन की नहीं, एवरग्रीन रिवॉल्युशन की आवश्यकता है। एवरग्रीन रिवॉल्युशन से मायने ये है कि वो देश के उन भागों और उन फसलों पर ज्यादा से ज्यादा ध्यान देना चाहते हैं, जिन्हें अबतक नजरअंदाज किया गया है। इसमें ऑर्गेनिक फार्मिंग से किसानों की आय कई गुना बढ़ाने की सोच भी शामिल है। पीएम मोदी की सरकार भारतीय कृषि को उस अवस्था में देखना चाहती है, जहां के नौजवान खेती के नाम से भागें नहीं। बल्कि उसे करियर के तौर पर अपनाने के लिए आगे आएं।

Leave a Reply