Home समाचार दक्षिण एशियाई देशों के नेताओं में भी मोदी-मोदी

दक्षिण एशियाई देशों के नेताओं में भी मोदी-मोदी

गूंजा 'सबका साथ, सबका विकास' का नारा

1253
SHARE

 

दक्षिण एशियाई सैटेलाइट (SAS) को लांच करते हुए पड़ोसी देशों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की खूब तारीफ की। दक्षिण एशियाई देशों के राष्ट्राध्यक्षों ने ‘सबका साथ, सबका विकास’ का नारा भी बुलन्द किया। भूटान ने SAS को भारत का ‘उदार उपहार’ और पीएम मोदी को दूरदर्शी नेता बताया, तो बाकी देशों के प्रमुखों ने भी पीएम मोदी की पहल को क्षेत्रीय सहयोग की दिशा में नया अध्याय बताया। समारोह के अंत में सभी देशों का धन्यवाद करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सभी देश ‘सबका साथ, सबका विकास’ को मार्गदर्शक सिद्धांत मानते हुए क्षेत्रीय सहयोग के लिए साथ चलने को तैयार हैं। यही आर्थिक समृद्धि का आधार बनेगा।

अशरफ घानी ने की पीएम मोदी की तारीफ

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति मोहम्ममद अशरफ घानी ने इस मौके पर कहा कि सार्क देशों के बीच आपसी सहयोग और साझा विकास की कल्पना अब वास्तिवकता में बदल रही है।

पीएम मोदी ने देशों को जोड़ा– श्री घानी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खास तौर पर ये कहते हुए आभार जताया कि उन्होंने न सिर्फ दक्षिण एशियाई देशों के लिए सैटेलाइट लांच किया है बल्कि सभी देशों को एक साथ जोड़ने का काम भी किया है। उन्होंने नागरिक केन्द्रित विकास पर फोकस देने की श्री मोदी की नीति की भी सराहना की।

नये युग की शुरूआत- भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खास तौर पर इस पहल के लिए बधाई दी और कहा कि गरीब और वंचित लोगों के लिए काम करने की दिशा में यह नये युग की शुरूआत है। श्री घानी ने कहा कि प्राकृतिक आपदा का शिकार रहे दक्षिण एशियाई देश अब मिलकर इसका सामना करेंगे।

भूटान के पीएम शेरिंग ने पीएम मोदी को विजनरी नेता बताया

भूटान के प्रधानमंत्री शेरिंग तोगाव ने दक्षिण एशियाई सैटेलाइट (SAS) को दुनिया के लिए ऐतिहासिक बताया। उन्होने कहा कि दुनिया के इतिहास में यह पहला मौका जब किसी देश ने दूसरे देशों के लिए सैटेलाइट लांच किया है। यह क्षेत्रीय सहयोग के लिये नये युग की शुरुआत है।

दूरदर्शी नेता है मोदी- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दूरदर्शी बताते हुए उन्होंने उनका धन्यवाद किया और कहा कि सबकी बेहतरी और सबके विकास के लिए उनकी यह पहल दक्षिण एशियाई देशों की क्षमता को बढ़ाएगा।

SAS भारत का उदार उपहार- श्री तोगाव ने SAS को भारत का ‘उदार उपहार’ बताते हुए  कहा कि भूटान जैसे कम विकसित देशों के लिए तकनीक का सहयोग कारगर साबित होगा। लैंड मैनेजमेंट, शहरी विकास, मौसम की भविष्य वाणी, प्राकृतिक आपदा, बेहतर स्वास्थ्य, जंगल, पानी, पर्यावरण जैसे विषयों पर सभी देशों को इसका फायदा मिलेगा।

मालदीव ने ‘सबका साथ, सबका विकास’ जरूरी

मालदीव के राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन अब्दुल गयूम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को SAS का तोहफा देने के लिए बधाई दी। उन्होंने पीएम मोदी के नजरिए की तारीफ की और कहा कि हम पूरी तरह से आश्वस्त हैं कि यह दक्षिण एशियाई देशों की जनता को एक-दूसरे के करीब लाएगी।

सबका साथ सबका विकास जरूरी- श्री कयूम ने ‘सबका साथ, सबका विकास’ का नारा भी बुलन्द किया।  

मोदी की पहल ‘मील का पत्थर’ पीएम मोदी की पहल को ‘मील का पत्थर’ बताया। उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि आर्थिक विकास के लिए आपस में सहयोग करते हुए सार्क देश एक-दूसरे के करीब आएंगे। उन्होंने राजनीतिक मतभेदों को दरकिनार कर एकजुट होकर काम करने की अपील की।

 

दक्षिण एशिया की तस्वीर बदल देगा SAS- शेख हसीना

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने भी भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस बात के लिए सराहना की कि वे क्षेत्रीय सहयोग और विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने विश्वास जताया कि दक्षिण एशियाई सैटेलाइट के लांच होने से दक्षिण एशिया की तस्वीर बदल जाएगी। पानी, हवा और धरती पर सहयोग का नया अध्याय शुरू होगा। उन्होंने कहा कि इलाके के लोग शांति, विकास और समृद्धि के लिए मिलकर काम करेंगे।

 

नेपाल ने जताया पीएम मोदी का विशेष आभार

नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कुमार दहल ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विशेष आभार जताते हुए आशा जतायी कि विज्ञान के क्षेत्र में भारत के विकास का फायदा नेपाल को मिलेगा। उन्होंने दक्षिण एशियाई देशों के एक-दूसरे से जुड़ने की भी उम्मीद जताई। नेपाली पीएम ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि टेली मेडिसिन, टेली एजुकेशन, आपदा प्रबंधन, संचार के क्षेत्र में नये युग की शुरूआत होगी। नेपाली प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि नेपाल के मानव संसाधन भी इस मकसद में कारगर साबित होंगे।

जीवन-स्तर उठाने में मददगार होगा SAS- श्रीलंका

श्रीलंका के राष्ट्रपति मैथ्रीपाला सिरिसेना ने दक्षिण एशियाई सैटेलाइट के लांच होने को सार्क के सदस्य देशों के लिए फायदेमंद बताया। इस अहम पहल के लिए उन्होंने भारत की सराहना की। उन्होने कहा कि लोगों को सुविधाएं देना ताकि वे खुशहाल रहें, हमारा दायित्व है। ऐसे में क्षेत्रीय सहयोग से हम आर्थिक और सामाजिक स्थिति में सुधारलाते हुए गरीबी दूर करने और लोगों का जीवन-स्तर बढ़ाने की दिशा में साथ-साथ आगे बढ़ सकते हैं।

 

Leave a Reply