Home नरेंद्र मोदी विशेष नजरें ईमानदार हों तभी दिखेगा पीएम मोदी के नेतृत्व में देश का...

नजरें ईमानदार हों तभी दिखेगा पीएम मोदी के नेतृत्व में देश का विकास

1632
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में पिछले 40 महीने में देश ने सकारात्मक बदलावों के साथ कितनी तरक्की की है इसे देखने का एक आसान तरीका आजमाकर हम देखें। पीएम मोदी के कार्यभार संभालने के दिन यानी 26 मई 2014 से पहले के 40 महीनों में देश के हालात पर एक नजर घुमा जाएं और उस दौर के सामने मौजूदा सरकार के 40 महीने के कामकाज को देखें। तुलना की इस प्रक्रिया के बाद हमारे लिए एक राहत होती है, एक सुकून मिलता है, UPA शासन में गर्त में धकेले गए अपने देश के बच जाने के साथ ही ताकतवर बनकर उभरने का एक सुखद एहसास होता है। जब राजनीतिक मकसद से मोदी सरकार के कामकाज पर सवाल उठाने वाले सामने आते हैं तो देश-विदेश के उद्योग जगत के धुरंधर भी इसी तुलना की सलाह देते हैं।

‘भारत के भविष्य के लिए बहुत अच्छे बदलाव’

अमेरिका की मल्टीनेशनल बैंकिंग और वित्तीय सेवाओं से जुड़ी प्रतिष्ठित कंपनी JP Morgan Chase के chairman और chief executive जैमी डिमॉन के मुताबिक गौर करने वाली बात यह है कि चार साल पहले भारत में कितनी निराशा थी और आज कितनी आशा है। Economic Times में छपे अपने इंटरव्यू में मोदी सरकार के कामकाज की उन्होंने दिल खोलकर सराहना की है। डिमॉन से पूछा गया कि पिछले वर्ष वो भारत को लेकर बहुत आशावादी थे लेकिन एक वर्ष बाद GDP growth को झटका लगा है इस पर उनका क्या कहना है?

डिमॉन ने जवाब दिया: ’मैं तिमाही आने वाले आंकड़ों पर नहीं बोलूंगा..भारत किसी भी देश से ज्यादा तेजी से आगे बढ़ रहा है। सरकार ने ढेर सारे बदलाव किये हैं जो भविष्य के लिए बहुत अच्छे साबित होंगे। बदलाव का असर अगले ही तिमाही में दिखने लगे ऐसा नहीं हो सकता। लेकिन आधार, GST और bankruptcy law ये सब तमाम बड़े बदलाव हैं।‘’

‘भारत के पास आज एक ताकतवर प्रधानमंत्री’

पीएम मोदी के बारे में पूछे जाने पर डिमॉन ने कहा: ‘’आपके पास एक बहुत अच्छे और ताकतवर प्रधानमंत्री हैं। पीएम मोदी के नेतृत्व में सरकार ने ऐसे कार्य किये हैं जो सभी लोगों के हित में हैं। खास बात यह है कि मौजूदा सरकार हर तबके लिए कार्य कर रही है.. affordable housing जैसी योजनाओं से इसका पता चलता है।‘’

हर योजना देश के मजबूत भविष्य के इरादे से

केंद्र में अपनी सरकार के गठन के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हर कदम पर देश के भविष्य को गढ़ने की छाप है। युवाओं के लिए वो स्किल डेवलपमेंट योजना शुरू करते हैं, तो किसानों की आय को दोगुना करने के लिए कृषि से जुड़ी बड़ी योजनाओं को जमीन पर लागू करते हैं। लघु और मध्यम बिजनेस को बढ़ावा देने के लिए मुद्रा योजना जैसी पहल करते हैं तो गरीबी रेखा से नीचे गुजारा करने वाले ग्रामीण परिवारों को उज्ज्वला योजना के तहत मुफ्त रसोई गैस कनेक्शन मुहैया कराते हैं। उनके नोटबंदी और जीएसटी जैसे कदमों के कई सकारात्मक नतीजे सामने आये हैं।

‘पीएम मोदी में न्यू इंडिया गढ़ने का दम’

अब देश पीएम मोदी की अगुआई में न्यू इंडिया के संकल्प को सिद्ध करने की ओर बढ़ चुका है। उद्योगपति रतन टाटा ये कहते हुए नये भारत के निर्माण का सपना पूरा होने का भरोसा जता चुके हैं कि भारत को नये सिरे से गढ़ने के लिए देश के पास आज नरेंद्र मोदी के रूप में पर्याप्त योग्य, सक्षम और innovative नेता मौजूद हैं।

‘देश को सही रास्ता दिखा रहे हैं पीएम मोदी’

महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा का मानना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को एक स्पष्ट और सही दिशा में लेकर आगे बढ़ रहे हैं। सोलर एनर्जी को लेकर पीएम मोदी की प्रतिबद्धता हो या फिर 2030 तक भारत में अधिक से अधिक बिजली आधारित वाहनों के लिए पहल-इन सबने महिंद्रा के दिल को छुआ है। इलेक्ट्रिक कारें बनाने वाली देश की एकमात्र कंपनी के प्रमुख मानते हैं कि ऐसे कदम स्वच्छ टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल के लिए उद्योग जगत को भी जागरूक करते हैं जो कि एक अच्छा संकेत है।   

क्यों नहीं हुई कभी मनमोहन सिंह की ऐसी प्रशंसा!

यहां एक सवाल उभरना लाजमी है कि पीएम मोदी के नेतृत्व के लिए आज देश-विदेश से प्रशंसा के जो शब्द निकल रहे हैं वैसे ही शब्द पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के लिए क्यों नहीं निकलते थे? इसका जवाब इस सच में छुपा है कि भ्रष्टाचार और घोटाले के आरोपों से लदी मनमोहन सिंह की गाड़ी में रिवर्स गियर लग गया था जो देश को तेजी से पीछे की ओर ले जा रहा था। देश की बागडोर पीएम मोदी के हाथों में आने से पहले एक वो दौर था जहां भ्रष्टाचार का बोलबाला था। कॉमनवेल्थ घोटाले से मची खलबली खत्म भी नहीं होती थी कि स्पेक्ट्रम घोटाला सामने आ जाता था और देखते ही देखते कोलगेट स्कैम की कालिख में डूब जाती थी सरकार-कुछ ऐसा ही दौर था UPA सरकार का। आज देश की स्वच्छ और स्वस्थ तस्वीर सामने है लेकिन गंदी राजनीति की धूल लगे चश्मे से इसे देखा नहीं जा सकता।

Leave a Reply