Home समाचार चुनाव में ऐतिहासिक पराजय के बाद गांधी परिवार को एक और झटका,...

चुनाव में ऐतिहासिक पराजय के बाद गांधी परिवार को एक और झटका, ईडी ने जब्त की 64 करोड़ की संपत्ति

444
SHARE

कांग्रेस पार्टी के दुर्भाग्य का दौर खत्म होने का नाम नहीं ले रहा। लोकसभा चुनाव में मिली करारी पराजय के बाद गांधी परिवार को एक और बड़ा झटका लगा है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) नेशनल हेराल्ड मामले में हरियाणा के पंचकूला स्थित 64.93 करोड़ की कीमत वाली संपत्ति को अपने कब्जे में ले लिया है। वर्ष 2005 में हरियाणा की तत्कालीन भूपेंद्र सिंह हुड्डा सरकार ने नियम-कायदे को नजरअंदाज कर यह संपत्ति गांधी परिवार के स्वामित्व वाले एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड (एजेएल) को आवंटित कर दी थी। 

यह मामला पंचकूला में एजेएल को हिंदी समाचार पत्र नेशनल हेराल्ड और नवजीवन के प्रकाशन के लिए जमीन आवंटन से जुड़ा है। एजेएल पर गांधी परिवार समेत कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं का नियंत्रण है। एक दिसंबर 2018 को पीएमएलए के तहत पंचकूला में सेक्टर 6 में सी-17 प्लाट को जब्त करने का आदेश जारी किया गया था। इस मामले में सीबीआई हुड्डा और अन्य के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट भी दाखिल कर चुकी है। हालांकि, यह जमीन कोर्ट से एजेंसी के पक्ष में फैसला आने के बाद ही पूरी तरह से सरकार के कब्जे में आएगी।

यह है पूरा मामला

1982 में तत्कालीन सीएम भजनलाल ने यह प्लॉट एजेएल को आवंटित किया था। 10 साल तक निर्माण नहीं होने पर हरियाणा अर्बन डेवलपमेंट प्राधिकरण ने वापस ले लिया था। 2005 में मना करने के बावजूद तत्कालीन सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने 1982 की कीमत पर ही प्लॉट एजेएल को फिर से आवंटित कर दिया। ईडी के अनुसार, प्लाट की कीमत 64.93 करोड़ रुपये थी, जबकि हुड्डा ने केवल 59.39 लाख में आवंटित कर दी थी। 3360 वर्गमीटर के इस जमीन पर निर्माण कार्य को पूरा करने के लिए वर्ष 2008 से 2012 के बीच तीन बार एजेएल को गलत तरीके से राहत दी गई। एजेएल का कार्य 2014 में पूरा हुआ। इस मामले में सतर्कता विभाग ने मई 2016 में हुड्डा के खिलाफ मामला दर्ज किया था।

Leave a Reply