Home समाचार सेवा और कर्म के प्रति प्रतिबद्धता के साथ प्रधानमंत्री ने मनाया अपना...

सेवा और कर्म के प्रति प्रतिबद्धता के साथ प्रधानमंत्री ने मनाया अपना जन्म दिवस

1734
SHARE

युवा जोश, अदम्य ऊर्जा, नम्रता, कर्मठता और कार्य के प्रति प्रतिबद्धता से परिपूर्ण व्यक्तित्व के धनी हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। प्रधानमंत्री बनने के बाद भी बेहद सादगी के साथ जीवन जीते हुए उन्होंने न सिर्फ राजनीतिक माहौल पर सकारात्मक असर डाला है, बल्कि नयी पीढ़ी के लिए आदर्श बन कर उभरे हैं। उनके कुछ चारित्रिक गुण वर्तमान सार्वजनिक जीवन के वातावरण में भी उन्हें अति विशिष्ट बनाते हैं। इनमें से विशेष है उनका सेवा भाव और जनता से सीधे संवाद बनाए रखने की उनकी शैली।

सार्थक हुआ ‘सेवा दिवस’ का उद्देश्य
17 सितंबर को पीएम मोदी का जन्मदिवस सेवा दिवस के रूप में मनाया गया। अगुवाई प्रधानमंत्री ने स्वयं की और दिन से लेकर रात तक जनता की सेवा में तत्पर रहे। प्रात: मां हीरा बा से आशीर्वाद लेकर अपने कर्म क्षेत्र में निकले तो दुनिया के दूसरे सबसे ऊंचे बांध सरदार सरोवर बांध देश को समर्पित किया। फिर ‘स्टेच्यू आफ यूनिटी’ के निर्माण में हुई प्रगति का जायजा लिया। उसके बाद बड़ोदरा के डभोई में एक बड़ी जनसभा को संबोधित किया। अमरेली में एक डेयरी का भ्रमण किया और एक जनसभा को संबोधित किया। इतनी व्यस्तताओं के बावजूद प्रधानमंत्री ने सोशल मीडिया के माध्यम से न सिर्फ जनता से संवाद बनाया बल्कि कई लोगों को फॉलो भी किया।

पीएम मोदी ने माता जी को प्रणाम किया के लिए चित्र परिणाम

प्रधानमंत्री ने दिया सरप्राइज
ट्विटर पर कई लोगों को प्रधानमंत्री की तरफ से तब प्लेजेंट सरप्राइज मिला जब उन्होंने बहुतेरे लोगों को न सिर्फ जवाब दिया बल्कि कई लोगों को फॉलो करना शुरू कर दिया। यतीश, मनीष पांडे और सलिल माथुर जैसे कुछ लोग तो हैरत में पड़ गए कि पीएम मोदी ने उन्हें फॉलो करना शुरू कर दिया।

सलिल माथुर @Saliltoday नाम के ट्विटर हैंडल यूजर ने आह्लादित होकर लिखा, ‘’प्रधानमंत्री द्वारा फॉलो किए जाने को लेकर बेहद सम्मानित महसूस कर रहा हूं।‘’

मनीष पांडे @manishk1392 नाम के यूजर पीएम मोदी की इस शैली से अपरिचित थे, सो आश्चर्यचकित रह गए। उन्होंने लिखा, आज पीएम मोदी द्वारा फॉलो किया गया बहुत-बुहत धन्यवाद।

यतीश @dimagkoshot भी हैरत में पड़ गए और लिखा, फॉलो करने के लिए धन्यवाद।

शुभचिंतकों का ध्यान रखते हैं पीएम
दरअसल प्रधानमंत्री आम लोगों की बातों को महत्व देते हैं और उनकी आकांक्षाओं पर खरा उतरने का प्रयास करते हैं। उनके जन्मदिन पर भी कुछ ऐसा ही हुआ जब कई सालों से पीएम मोदी को फॉलो कर रहे रोमेश नादिर, साध्वी जया भारती, बिंदु डालमिया, विशाखा, प्रांजलि चौधरी और शेफाली वैद्य, जैसे फॉलोअर्स को पीएम मोदी ने फॉलो करना शुरू कर दिया है।

शेफाली वैद्य ‏@ShefVaidya ने पीएम मोदी को अपने फॉलोइंग में देखा तो उनकी तो सांस ही अटक गई, लिखा, ‘’जब मैंने यह देखा तो एक पल के लिए मेरी धड़कन रूक गई। कल जन्मदिन मोदी जी का था, लेकिन उपहार मुझे मिला। मैं अभिभूत हूं।‘’

प्रांजलि चौधरी @PranjalC23 को पीएम मोदी द्वारा फॉलो किया जाना सबसे स्पेशल लगने लगा है। उन्होंने लिखा, ‘’ ‘’मेरा बर्थडे मेरे लिए हमेशा विशेष रहा है, लेकिन अब प्रधानमंत्री द्वारा फॉलो किए जाने से यह और भी खास हो गया है।‘’

बिंदु डालमिया @BinduDalmia ने तो पीएम मोदी के इस अंदाज पर लट्टू हो गए। उन्होंने लिखा, ‘’सर, मैं बहुत सम्मानित और उत्तेजित महसूस कर रहा हूं। आजादी के बाद के अकेले आइकॉन के साथ बिना शर्त खड़ा रहना चाहता हूं।‘’

विशाखा @VishakhaJ18 तो पीएम मोदी की मुरीद पहले से थीं, अब अभिभूत भी हो गई हैं। उन्होंने लिखा, ‘’मैं बहुत ही नम्रतापूर्वक अभिभूत हूं, बहुत-बहुत धन्यवाद।‘’

रोमेश नादिर @RomeshNadir तो इतने प्रसन्नचित हो गए कि अपने जीवन का सबसे बड़ा दिन करार दे दिया। उन्होंने लिखा, ‘’इससे बड़े दिन की आप कल्पना नहीं कर सकते, हमारे प्यारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने उनके जन्मदिन पर मुझे का फॉलो किया। आभार और अनेक शुभकामनाएं।‘’

साध्वी जया भारती ने @jayabharati लिखा, ‘’ट्विटटर पर मुझे सम्मान के लिए धन्यवाद ईश्वर आपको भारत के उत्कर्ष के लक्ष्य को साकार करने के लिए एक लंबा और स्वस्थ जीवन दे।‘’

फ्रस्ट इंडियन नाम के फॉलोअर्स ने लिखा है, ‘’मुझे फॉलो करने के लिए धन्यवाद हम आपका मान बरकरार रखेंगे।‘’

मिहिर झा @MihirkJha नाम के ट्विटर यूजर तो इतने प्रसन्न हो गए कि उन्होंने पीएम को स्पीचलेस प्रणाम भेजा।

ट्विटर पर 34.3 मिलियन फॉलोअर्स
34.3 मिलियन लोग ऐसे हैं जो पीएम मोदी को ट्विटर पर फॉलो करते हैं वहीं प्रधानमंत्री अपने ट्विटर अकाउंट पर अब तक 1838 लोगों को फॉलो करते हैं। फेसबुक पर भी पीएम मोदी को चार करोड़ 24 लाख लोग उन्हें फॉलो करते हैं।

जवाबदेही का माध्यम बना सोशल मीडिया
धरातल पर क्या हो रहा है, देश-समाज किस विषय को किस तरीके से देखता है, इसे जानने के लिए सोशल नेटवर्क को प्रधानमंत्री एक प्लेटफॉर्म मानते हैं। इतना उन्होंने अपने मंत्रियों से बैठकों और उनसे जुड़ी जानकारियों को फेसबुक पर साझा करने के लिए कहा है जिससे उन्हें जनता से सीधे फीडबैक मिल सके।

जनता के सुझावों को ‘जमीन’ देने का प्रयास
दरअसल प्रधानमंत्री मोदी देश की जनता से जुड़े रहने की कोशिश में नये-नये तौर-तरीके भी अपनाते रहते हैं। रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ भी इसी की एक कड़ी है। पीएम ने सभी मुद्दों पर जनता की राय मांगने की परंपरा शुरू की है। कई मौकों पर जनता से संवाद कर उनसे मिले सुझावों को सरकार में जगह दी है। मोदी सरकार का नागरिक सहभागी मंच ‘MyGov’शुरू किया तो Narendramodi ऐप के जरिये लोगों से संवाद स्थापित किया।

संवाद स्थापित करने की प्रधानमंत्री की उत्कंठा
प्रधानमंत्री मानते हैं कि अब न सिर्फ देश और शहर बल्कि जरूरत है पूरी मानवजाति के ग्लोबली साथ जुड़ने की जरूरत है। बीते बीस सालों से प्रधानमंत्री ने संवाद की शैली को सभी स्तरों पर एक नई ऊंचाई दी है। भाषण हो या रेडियो के जरिये मन की बात हो। फेसबुक हो, ट्विटर हो या फिर कोई भी डिजिटल माध्यम, पीएम मोदी ने अपनी इस विशेषता को धार दिया है।

राजनीतिक-सामाजिक संवाद की विशिष्ट शैली
प्रधानमंत्री ने राजनीतिक-सामाजिक संवाद की अपनी विशिष्ट शैली विकसित की है। दरअसल संवाद एक ऐसा माध्यम है जोकि जनता को नेता की सोच, गुण, कार्यकुशलता, विचारधारा, क्षमता से परिचय करवाता है। जनता ख़ुद को नेता की वाणी में सदैव खोजती रहती है जब कोई भी नेता जनता के मन की बात अपने शब्दों में गढ़ने लगते हैं वो नरेंद्र मोदी हो जाते हैं।

Leave a Reply