Home विचार व्यंग्य : हर छोटी-बड़ी बात के लिए प्रधानमंत्री मोदी जिम्मेदार हैं!

व्यंग्य : हर छोटी-बड़ी बात के लिए प्रधानमंत्री मोदी जिम्मेदार हैं!

382
SHARE

”हर बात पर पीएम को जिम्मेदार ठहराने से दूसरी संस्थाएं जिम्मेदारी नहीं लेती।” अगस्त 2016 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का दिया गया यह बयान इस संदर्भ में महत्वपूर्ण है जिसमें हर बात के लिए उन्हें जिम्मेदार ठहराने की एक नई प्रवृति सी बन गई है। गौरतलब है कि देश के भीतर ऐसे सेक्यूलरों और बुद्धिजीवियों की भरमार है जिन्होंने यह खास पैटर्न सेट कर दिया है।

दरअसल एक-दूसरे से दूर-दूर दिखने वाली कई अलग-अलग घटनाओं को एक-दूसरे से जोड़ने वाला धागा इतना बारीक है, जो कि आसानी से नहीं दिखता है, लेकिन इसका उद्देश्य स्पष्ट है। जिस तरह से हर बात पर प्रधानमंत्री मोदी का विरोध हो रहा है, उसे देखते हुए यह कहा जा सकता है कि ऐसे लोगों ने देश में सिर्फ ‘मोदी नाम केवलम’ का ही मंत्र याद रखा है और बाकी सब को ‘मिथ्या’ मान लिया है।

आइये हम कुछ ऐसी खबरों पर एक दृष्टि डालते हैं… 

मॉब लिंचिंग पर सेक्यूलरों का सार, ठहराया पीएम मोदी को जिम्मेदार!

The Print नामक वेबसाइट में 2 जुलाई को छपे आर्टिकल में में सलाह दी गई है कि अगर प्रधानमंत्री मोदी लोगों से वॉट्सऐप अफवाहों के शिकार होने से बचने की अपील करते तो इसका असर होता। दरअसल पिछले कुछ दिनों में वॉट्सऐप मैसेज की अफवाहों के चलते देश के कई हिस्सों में अब तक 29 लोगों को मार डालने की घटनाएं सामने आई हैं। इन हत्याओं में कोई राजनीतिक एंगल नहीं है। कोई हिंदू-मुस्लिम विवाद नहीं है, कोई जाति भी नहीं है। कोई भारत-पाकिस्तान नहीं, कोई बीजेपी-कांग्रेस नहीं, कोई जिहाद या नक्सलवाद भी नहीं, कोई आरएसएस या कश्मीर नहीं, राजनेताओं द्वारा कोई वार और पलटवार भी नहीं है, लेकिन सेक्यूलरों की नजर में फिर भी इसके लिए पीएम मोदी जिम्मेदार हैं!

शासन नहीं चला पा रहे केजरीवाल तो पीएम मोदी जिम्मेदार!

दिल्ली के सीएम अरविंद केरजीवाल और उनकी पूरी सरकार यह जताने की कोशिश में है कि दिल्ली की जनता की आकांक्षाओं को पूरा नहीं कर पाने के पीछे पीएम मोदी ही जिम्मेदार हैं। दरअसल हर वादे पर फेल रहे केजरीवाल सरकार केजरीवाल ने सत्ता में आते समय जो-जो वादे किए थे उसपर वे फेल साबित हुए हैं। 1000 मोहल्‍ला क्‍लीनिकों में 180 स्‍थापित हुईं। हर साल दो लाख पब्लिक टॉयलेट के बदले तीन साल में 21 हजार बना पाए। 11 हजार नई बसें चलाने का वादा पूरा नहीं कर सके। 20 नए डिग्री कॉलेज भी नहीं खुले। पूरी दिल्ली को सीसीटीवी कैमरे लगाने, फ्री वाई-फाई, बसों में सीसीटीवी – मार्शल देने और अवैध कॉलोनियों को नियमित करने जैसे वादों पर तो सरकार एक कदम भी नहीं बढ़ पाई है।ि

कांग्रेस-कुमारस्वामी में ‘खटपट’ के लिए भी पीएम मोदी जिम्मेदार!

कर्नाटक में कांग्रेस और कुमारस्वामी की सरकार के बीच ‘खटपट’ चल रही है। सत्ता की ‘मलाई’ खाने की होड़ में दोनों ही दलों के बीच ‘धींगामुश्ती’ है। 9 विधायकों के साथ पूर्व सीएम सिद्धारमैया कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व को ललकार रहे हैं। कांग्रेस के प्रादेशिक नेताओं और आलाकमान के बीच भी खींचतान है। बावजूद इसके यह जताने की कोशिश की जा रही है कि प्रधानमंत्री मोदी इसके लिए जिम्मेदार हैं!

सपा-बसपा ने कांग्रेस को किया दरकिनार तो पीएम मोदी जिम्मेदार!

उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा के बीच सीटों के बंटवारे को लेकर ‘बड़े-छोटे’ का विवाद है। दोनों ही दलों ने कांग्रेस को ‘2 सीटों वाली’ हैसियत भी दिखा दी है। कांग्रेस खीझ रही है, अपनी ‘औकात’ को लेकर चिंतित है। लेकिन वह यह जताने की कोशिश कर रही है कि महागठबंधन बनने में ‘रार’ और उनकी इस हालत के लिए भी पीएम मोदी ही जिम्मेदार हैं!

तेजस्वी-तेजप्रताप में ‘कलह’ का पीएम मोदी कनेक्शन!

बिहार में तेजप्रताप यादव अपनी ही पार्टी में अपमान से आहत हैं। वे तेजस्वी यादव द्वारा ‘दुत्कारे’ जाने से पीड़ित होकर फेसबुक पर आते हैं और राजनीति से ‘आजादी’ चाहते हैं का नारा लगाते हैं, लेकिन अगले ही पल बता देते हैं कि यह बीजेपी-आरएसएस और मोदी की साजिश है। जाहिर है वे अपने घर की ‘कलह’ के लिए भी पीएम मोदी को ही जिम्मेदार ठहरा रहे हैं!

कांग्रेस-पीडीपी के बीच ‘पींगें’ नहीं बढ़ने के लिए पीएम मोदी जिम्मेदार!

जम्मू-कश्मीर में महबूबा और कांग्रेस में ‘मोहब्बत’ नहीं हो पा रही है। एक के बाद एक पीडीपी के तीन विधायकों ने बगावत का बिगुल फूंक दिया है। कांग्रेस भी अपना गेम प्लान जाहिर नहीं कर पा रही है, लेकिन पीडीपी-कांग्रेस और मीडिया का एक धड़ा इसके लिए भी पीएम मोदी को जिम्मेदार ठहरा रहा है!

LEAVE A REPLY