Home नरेंद्र मोदी विशेष देश के हर नागरिक तक स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाना सरकार का लक्ष्य :...

देश के हर नागरिक तक स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाना सरकार का लक्ष्य : प्रधानमंत्री मोदी

262
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि देश के हर नागरिक तक स्वास्थ्य सुविधाओं को पहुंचाना उनकी सरकार का लक्ष्य है। एम्स और सफदरजंग अस्पताल में कई स्वास्थ्य सुविधाओं के उद्घाटन के मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि न्यू इंडिया के लिए एक ऐसी स्वास्थ्य व्यवस्था का निर्माण किया जा रहा है जहां उत्तम अस्पताल हों, ज्यादा बेड हों, बेहतर सुविधाएं हों, उत्कृष्ट डॉक्टर हों।

बुजुर्गों के लिए मल्टी स्पेशलिटी सेंटर का शिलान्यास
प्रधानमंत्री ने स्वास्थ्य सुविधाओं के उद्घाटन के साथ ही एम्स के राष्‍ट्रीय वृद्धावस्‍था केन्‍द्र का शिलान्यास भी किया जहां वृद्धजनों को मल्टी स्पेशलिटी चिकित्सा सुविधा प्रदान की जाएगी। 300 करोड़ रुपए से अधिक की लागत से बनने वाला यह 200 बेड का सेंटर होगा। आने वाले दो वर्षों में इस सेंटर को पूरा करने का प्रयास किया जाएगा। वरिष्ठ नागरिकों के लिए अभी एम्स में एक विभाग है लेकिन अब अलग से अस्पताल और रिसर्च सेेंटर का भी निर्माण होगा। इस केंद्र में बुजुर्ग मरीजों को इलाज मिलने के अलावा डॉक्टरों के प्रशिक्षण और शोध पर भी कार्य होगा।

प्रधानमंत्री ने जिन स्वास्थ्य सुविधाओं का उद्घाटन वो हैं:

  • एम्स में 300 बेड और अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस जयप्रकाश नारायण एपेक्स ट्रॉमा सेंटर में बना विश्राम सदन
  • सफदरजंग अस्पताल के 555 बिस्तर वाले सुपर स्पेशलिटी अस्पताल का उद्घाटन
  • सफदरजंग अस्पताल में 500 बिस्तर वाले नए इमरजेंसी ब्लॉक
  • एम्स, अंसारी नगर और ट्रॉमा सेंटर के बीच वाहनों की आवाजाही के लिए एक किलोमीटर लंबी सुरंग

एम्स के सेंटरों पर मरीजों को ले जाना अब आसान
इमरजेंसी में मरीजों को जल्द से जल्द अस्पताल पहुंचाना जरूरी होता है। लेकिन एम्स के अलग-अलग सेंटर पर मरीजों की सही तरीके से आवाजाही बड़ी समस्या बनी हुई थी। अब लगभग एक किलोमीटर लंबी सुरंग से यह समस्या सुलझ गई है। प्रधानमंत्री ने इस सुरंग का भी उद्घाटन किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि समय पर सही इलाज जीवन बचाने में भूमिका निभाता है और यह सुरंग इसमें मददगार बनेगी।

पिछले चार वर्षों में हेल्थकेयर को नई दिशा
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बीते चार वर्षों में पब्लिक हेल्थकेयर को एक नई दिशा दी गई है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के एक के बाद एक policy interventions से हम उस स्थिति की तरफ बढ़ रहे हैं जहां देश के गरीब और मध्यम वर्ग को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं के लिए भटकना न पड़े, अनावश्यक खर्च न करना पड़े। सरकार का प्रयास है कि बड़े शहरों के आसपास जो स्वास्थ्य का इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया गया है उसे सुदृढ़ करने के साथ-साथ ऐसी ही सुविधाएं टियर 2 और टियर 3 शहरों तक पहुंचाई जाएं।

स्पष्ट विजन के साथ काम कर रही सरकार
प्रधानमंत्री ने कहा कि मौजूदा सरकार का विजन सिर्फ अस्पताल, बीमारी एवं दवाई और आधुनिक सुविधाओं तक ही सीमित नहीं हैं। कम खर्च पर देश के हर व्यक्ति का इलाज सुनिश्चित हो, लोगों को बीमार बनाने वाले कारणों को खत्म करने का प्रयास हो, इसी सोच के साथ नेशनल हेल्थ पॉलिसी का निर्माण किया गया है। सरकार ने स्वास्थ्य सेवाओं को स्वास्थ्य मंत्रालय से आगे ले जाने का काम किया है। सरकार के स्वास्थ्य के विजन के साथ आज ग्रामीण विकास मंत्रालय, स्वच्छता और पेयजल मंत्रालय और महिला एवं बाल विकास मंत्रालय जुड़े हैं। इसके साथ ही आयुष मंत्रालय से भी सहयोग मिल रहा है। आधुनिक स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने को लेकर इस सरकार में तेजी कुछ इस प्रकार की है कि आजादी के 70 वर्षों में जितने एम्स बने, उससे अधिक बीते 4 वर्षों में मंजूर किए गए हैं।

बीमारी रोकने का मतलब गरीबी को रोकना
प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार में बीमारी और गरीबी के बीच संबंध को देखते हुए योजनाएं बनाई गईं और उन्हें लागू करने का प्रयास किया गया। उन्होंने कहा कि बीमारी रोकने का मतलब गरीबी को भी रोकना होता है और इसी दिशा में निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं। स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत शौचालयों का निर्माण, संपूर्ण टीकाकरण के लिए मिशन इंद्रधनुष और माता और शिशु के बेहतर स्वास्थ्य के लिए राष्ट्रीय पोषण मिशन इसी ओर उठाए गए कदम हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि जांच और टीकाकरण में पांच नई वैक्सीन जुड़ने से मातृत्व और शिशु मृत्यु दर में अभूतपूर्व कमी आई है जिसे अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी सराहा गया है।

दवाओं पर होने वाला खर्च हुआ काफी कम
बीते चार वर्षों में अफॉर्डेबल हेल्थ केयर के क्षेत्र में कई बड़े कदम उठाए गए हैं जिनसे आम नागरिकों के स्वास्थ्य में बेहतरी आई है। 1100 के करीब दवाओं को मूल्य नियंत्रण व्यवस्था के दायरे में लाया गया है जिससे लोगों का दवाओं पर खर्च काफी कम हुआ है। इसके साथ ही जीएसटी के बाद कई दवाओं की कीमत कम होने से भी लाभ पहुंचा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रिवेंटिव हेल्थकेयर में योग ने भी नए सिरे में खुद को स्थापित किया है। उन्होंने कहा कि स्वस्थ परिवार से ही स्वस्थ समाज और स्वस्थ समाज से ही स्वस्थ राष्ट्र का निर्माण होता है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में इसी बुनियादी सोच के साथ मौजूूदा सरकार आगे बढ़ रही है।  

LEAVE A REPLY