Home नरेंद्र मोदी विशेष ‘चायवाला’ प्रधानमंत्री बना, कांग्रेस इसका क्रेडिट भी देशवासियों को देने के लिए...

‘चायवाला’ प्रधानमंत्री बना, कांग्रेस इसका क्रेडिट भी देशवासियों को देने के लिए तैयार नहीं: पीएम मोदी

548
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि कांग्रेस इस बात को पचा नहीं पा रही है कि गरीब मां का बेटा राजगद्दी पर बैठ कैसे गया। इसलिए कांग्रेस के नेता अब ये कहने पर भी उतर आए हैं कि पंडित नेहरू के कारण ये मोदी ‘चायवाला’ प्रधानमंत्री बन गया।

परिवार से बाहर का अध्यक्ष बनाकर दिखाएं – शुक्रवार को छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर की अपनी जनसभा में श्री मोदी ने चुनौती देते हुए कहा, ”अगर नेहरू जी ने ऐसी परंपरा विकसित की थी जिससे मोदी प्रधानमंत्री बन गया तो पांच साल के लिए अपने परिवार के बाहर के किसी को कांग्रेस का अध्यक्ष बनाकर दिखा दीजिए, तो मैं मान लूंगा कि कोई समर्पित कांग्रेसी, कांग्रेस का अध्यक्ष बन गया।” उन्होंने कहा कि चाय वाला प्रधानमंत्री बन गया इसके लिए भी कांग्रेस सवा सौ करोड़ देशवासियों को क्रेडिट देने को तैयार नहीं हैं, यह उसके अलोकतांत्रिक रवैये का सिद्ध करता है।

नोटबंदी से विकास कार्यों में आई तेजी – प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस वालों को कुछ चीजें ऐसी चुभी हैं, जिसके कारण उन्हें नींद नहीं आती है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के लिए कोई नहीं रो नहीं रहा है, अकेला एक परिवार रो रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि जनता का धन जिन लोगों ने बोरियों में बंद करके और बिस्तर के नीचे छुपा करके रखा था, नोटबंदी से वह बाहर आ गया और इससे देश में विकास के कई कार्यों में तेजी आ गई। सड़क बनाने की रफ्तार डबल हुई हो या प्रधानमंत्री आवास योजना में गरीबों को घर मिलना, नोटबंदी के कारण आए पैसे इसमें काम आ रहे हैं। श्री मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत अकेले सरगुजा में 22 हजार गरीब परिवारों को घर की चाबी दी जा चुकी है। इसके साथ ही मौजूदा सरकार आठ करोड़ लोगों को घर-घर जाकर मुफ्त गैस कनेक्शन पहुंचा रही है। उज्ज्वला योजना के तहत अकेले छत्तीसगढ़ में अब तक 80 हजार परिवारों को एलपीजी कनेक्शन दिया गया है।

दिखाया कि गरीब के लिए कैसे काम होता है – प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि गरीब के लिए कैसे काम होता है, ये मौजूदा सरकार ने करके दिखाया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने गरीबों के नाम पर बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया लेकिन गरीब के लिए बैंक के दरवाजे बंद रहे थे। उनकी चार पीढ़ियों ने शासन किया लेकिन आधी जनसंख्या के पास कोई बैंक अकाउंट नहीं था। आज जन धन में 33 करोड़ लोगों के बैंक अकाउंट खुल चुके हैं। इनमें से अकेले छत्तीसगढ़ में सवा करोड़ लोगों के बैंक अकाउंट खुले हैं।

कांग्रेस की राजनीति ‘कृपा हो जाएगी’ वाली – श्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस के लोग चुनाव आते ही पिटारे खोल देते हैं क्योंकि उन्हें मालूम है कि आने वाला है नहीं तो बोलने में क्या जाता है। जिस तरह तरह से टीवी पर एक बाबा कहता है कि दूध पीना शुरू कर दो तो कृपा हो जाएगी, वैसे ही कांग्रेस वाले कहते हैं कि बस एक बार उंगली दबा दो, कृपा हो जाएगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि जनता ने उनकी चार-चार पीढ़ियों को परखा है और इन चार पीढ़ियों ने क्या काम किया इस चुनाव में उन्हें उसका हिसाब देना चाहिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि वो तो अपने चार साल का हिसाब हमेशा जनता को देते रहते हैं लेकिन कांग्रेस अपनी चार पीढ़ियों का हिसाब भी तो दे।

हमारा बस एक मंत्र ‘सबका साथ सबका विकास’ – प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि नागरिकों के लिए सरकार चुनने का यही मानदंड होता है कि सरकार वैसी हो, जो अपने-पराये का भेद ना करे, मेरी बिरादरी-तेरी बिरादरी को अपने कामकाज का आधार ना बनाए। इस मानदंड पर मौजूदा सरकार हर प्रकार से खरी उतरी है। प्रधानमंत्री ने कहा, ”किसी भी तराजू पर देख लीजिए आज देश में एकमात्र भारतीय जनता पार्टी है, जो बिना भेदभाव के, बिना मेरे-तेरे के, बिना अपने-पराये के, किसी भी प्रकार के भेद किए बिना ‘सबका साथ सबका विकास’ के एक मंत्र को लेकर के चल रही है। हमें साथ भी सबका चाहिए और हमें विकास भी सबका करना है। सिर्फ उनका नहीं जो हमें वोट देते हैं, जो हमें वोट नहीं दे पाते हैं, वो भी मेरे छत्तीसगढ़ के हैं। इस विचार को लेकर के हमने काम किया है।”

कांग्रेस के वादे हमेशा खोखले – प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यह पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी थे, जो छत्तीसगढ़ के विकास के लिए आगे आए और जिनके चलते बिना बम-बंदूक चले छत्तीसगढ़ का निर्माण संभव हुआ। प्रधानमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ जब मध्य प्रदेश का हिस्सा था और जब विभाजन के बाद भी तीन वर्षों तक यहां कांग्रेस का राज था, उस दौरान हर तरह से उसकी उपेक्षा की गई। श्री मोदी ने कहा कि छत्तीसगढ़ बनने से पहले इस पूरे क्षेत्र समेत मध्यप्रदेश के लिए कांग्रेस पार्टी ने जो वादे किए थे, उनमें से 62 प्रतिशत चुनावी वादों को उन्होंने खोल करके देखा तक नहीं था। उनके वादे खोखले निकले थे, जिससे कांग्रेस का कल्चर आसानी से समझा जा सकता है।

मेरी जिंदगी जनता को समर्पित – प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उनके लिए सवा सौ करोड़ हिंदुस्तानी ही उनका परिवार हैं और उनके हर सुख-दुख को वे अपना सुख-दुख मानते हैं। उन्होंने कहा कि गरीबी झेलने वाला व्यक्ति ही समझ सकता है कि गरीब के बीमार पड़ने पर उसके घर में कितनी मुसीबत आ जाती है। यही वो बात है जिससे आयुष्मान भारत जैसी योजना पैदा होती है और एक पैसा खर्च किए बिना भी किसी गरीब का अस्पताल में ऑपरेशन संभव होता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने झूठ बोलने का रास्ता चुना है, लेकिन उन्होंने जनता के लिए समर्पित जिंदगी जीने का रास्ता चुना है।

दूसरे चरण में अपने सारे रिकॉर्ड तोड़ने की अपील – श्री मोदी ने पिछले लोकसभा चुनावों के दौरान अंबिकापुर की अपनी रैली को याद करते हुए कहा कि तब यहां के कलाकारों ने सभा मंच को लाल किले की प्रतिकृति दी थी, जो यहां के लोगों की भावनाओं का प्रतिबिंब थी। उन्होंने पिछले 12 नवंबर को छत्तीसगढ़ में पहले राउंड के चुनाव में भारी मतदान करने के लिए जनता जनार्दन की काफी सराहना की और कहा कि इससे जाहिर हुआ है कि विकास के लिए वोट देने का जनता का संकल्प कितना दृढ़ है। प्रधानमंत्री ने कहा कि सामने जब मौत के खेल खेले जा रहे थे, फिर भी डरे बिना, झुके बिना इतनी भारी मात्रा में बस्तर के मतदाताओं ने बता दिया कि लोकतंत्र ही जनता की समस्याओं का समाधान करने का उत्तम से उत्तम रास्ता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि हिंसा के रास्ते जनता के अधिकारों को दबोचने वालों को जनता ने वोटिंग मशीन पर उंगली दबाके करारा जवाब दिया है, जो दूसरे चऱण के मतदान के लिए भी एक प्रेरणा है। प्रधानमंत्री ने 20 नवंबर को छत्तीसगढ़ में दूसरे चरण के मतदान में अपने सारे रिकॉर्ड तोड़ देने की भी जनता से अपील की।

Leave a Reply