Home चुनावी हलचल निचले स्तर तक भ्रष्टाचार का खात्मा करना है पीएम मोदी का लक्ष्य

निचले स्तर तक भ्रष्टाचार का खात्मा करना है पीएम मोदी का लक्ष्य

377
SHARE

भक्ति और शक्ति की धरती नागौर में प्रधानमंत्री मोदी ने राजस्थान के लोगों से निचले स्तर पर फैले भ्रष्टाचार को मिटाने का वादा किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 70 साल में ईजाद किए गए भ्रष्टाचार के असंख्य और नए नए तरीकों के बारे में जागरूक किया और कहा कि उन्होंने सरकार में ऊपरी स्तर तक फैले हुए भ्रष्टाचार को समाप्त करने में बड़ी कामयाबी पाई है। और वो अब शासन में निचले स्तर पर फैले भ्रष्टाचार पर चोट करना चाहते हैं, जिसके लिए राजस्थान की जनता का साथ जरूरी है।

दरअसल हमारे समाज और सरकारों की बड़ी विडंबना ये रही है कि देश में ज्यादातर वक्त ऐसे लोगों के हाथ में कमान रही, जो सोने का चम्मच मुंह में लेकर पैदा हुए थे। इन लोगों का जनता और जमीनी हालात से कोई जुड़ाव नहीं था। जिसका खामियाजा ये हुआ कि हम लोग आजादी के 70 साल बाद भी आगे नहीं बढ़ पाए। देश की जितनी क्षमता है, उस हिसाब से न लोगों को फायदा हुआ न देश आगे बढ़ा। प्रधानमंत्री ने इसी रोग की जड़ पर चोट करने का काम किया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने महान समाज सुधारक महात्मा ज्योतिबा राव फुले को याद करते हुए कहा कि उनकी सरकार का ‘सबका साथ-सबका विकास’ का नारा उन्हीं की प्रेरणा है। 

प्रधानमंत्री ने लोगों को उनके एक वोट की कीमत का महत्व भी बताया। उन्होंने कहा कि देश में बीते साढ़े चार साल में उनकी सरकार ने एक करोड़ 25 लाख गरीबों को घर दिये हैं। इनमें नागौर के 16 हजार मिलाकर पूरे राजस्थान में सात लाख गरीबों के लिए पक्के घर का सपना साकार किया गया है। उन्होंने कहा कि विकास की ये दौड़ आगे भी जारी रहे, इसके लिए राजस्थान के हर एक आदमी को अपने वोट का सही इस्तेमाल करना होगा। अपना वोट भारतीय जनता पार्टी को देना होगा।

दरअसल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पूरा जीवन संघर्ष और आदर्श की मिसाल है। एक बेहद सामान्य परिवार में जन्मे प्रधानमंत्री मोदी ने बचपन से आम भारतीयों की गरीबी और उनकी तकलीफों को बेहद करीब से देखा है और उन्हें भुगता है, इसलिए वो अपनी सारी योजनाओं के केंद्र में समाज की महिलाओ, गरीब-वंचित-शोषित-पीड़ित-दलितों को रखते हैं। उन्होंने नागौर में कहा कि बचपन में उन्होंने अपनी मां को चूल्हे के धुएं में खाना बनाते समय परेशान होते देखा है, इसलिए वो उज्जलवा योजना लेकर आए। इसका फायदा पूरे देश में 6 करोड़ महिलाओं को मिला है। अब ये महिलाएं लकड़ी के धुएं के बजाए गैस के चूल्हे पर खाना बना रही है।

प्रधानमंत्री मानते हैं कि समाज का अमीर वर्ग तो खुद जरूरी संसाधन जुटा सकता है लेकिन गरीबों की सरकारी संसाधनों से मदद करना बहुत जरूरी है। इसलिये वो गरीबों के इलाज के लिए आयुष्मान भारत योजना लेकर आए हैं। जिसका फायदा करोड़ों गरीबों को मिल रहा है।

राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी के लाखों कार्यकर्ताओं के बीच पीएम मोदी ने कहा कि अब आधुनिक राजस्थान बनाने का वक्त आ गया है, इसके लिए राजस्थान में ऐसी सरकार चाहिए जो दिल्ली की मोदी सरकार के कंधे से कंधा मिलाकर चल सके।

LEAVE A REPLY