Home नरेंद्र मोदी विशेष प्रधानमंत्री मोदी की प्रेरणा से बदल रहा मेरा देश, पढ़िये 5 कहानियां…

प्रधानमंत्री मोदी की प्रेरणा से बदल रहा मेरा देश, पढ़िये 5 कहानियां…

281
SHARE

भारत के पास प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के रूप में ऐसा नेतृत्व मौजूद है जिनकी सोच रचनाशील और दृष्टि विकासशील है। इनकी अगुवाई में बीते चार वर्षों में देश के लोगों ने हर क्षण सकारात्मकता का अहसास किया है। यही कारण है कि उनकी एक-एक बात हर भारतीय के लिए प्रेरणा का एक कारण बन जाती है और सोच में बदलाव का अनुभव करवाती है। आइये हम देश में बदल रही इसी सोच को इन 5 कहानियों के माध्यम से समझते हैं…

दो युवाओं ने बना दिए ‘स्मार्ट गांव’

”कभी हमलोग सुना करते थे कि भारत से ब्रेन ड्रेन को रोकने के लिए कुछ करना पड़ेगा, भारत की धरती कई ‘मोती’ पैदा करती है… ये ब्रेन ड्रेन ‘गेन’ भी बन सकता है।” वर्ष 2015 में अमेरिका दौरे में कही गई पीएम मोदी की इस बात ने आईटी प्रोफेशनल्स रजनीश और योगेश को प्रेरित किया। दोनों युवाओं ने देश के लिए कुछ करने के लिए तय किया और सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली के बदहाल तौधकपुर गांव की तस्वीर बदलकर दी।

इनके बनाए गए ‘स्मार्ट गांव ऐप’ के कारण आज यहां 18 से 20 घंटे बिजली, वाई-फाई जोन, सीसीटीवी कैमरा, स्ट्रीट लाइट्स जैसी सुविधाएं हैं। किसानों को उपज की जानकारी भी मिल रही है। गांव के विकास कार्यों को रिकॉर्ड, ट्रैक और मॉनिटर किया जा रहा है।

गायत्री तैयार कर रहीं ‘रानी मिस्त्री’

पांच मई को पीएम मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से देशभर की महिलाओं से बात की थी। इनमें से एक हैं झारखंड में खूंटी की गायत्री। गायत्री ने ‘रानी मिस्त्री’ का प्रशिक्षण लेकर प्रधानमंत्री के स्वच्छता अभियान में हाथ बंटाया और कई शौचालय बनाए हैं।

2016 में ‘रानी मिस्त्री’ का प्रशिक्षण लेने के बाद वह तीन शौचालयों और प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 15 घरों का निर्माण कर चुकी हैं। वह अब ‘रानी मिस्त्री’ बनाने के लिए 30 लोगों की टीम को प्रशिक्षण भी दे रही हैं।  जाहिर है पीएम मोदी की बातों से प्रेरणा लेकर ऐसी महिलाएं समाज की अन्य महिलाओं के लिए प्रेरणास्रोत बन गई हैं।

छात्रा ने पॉकेटमनी से बनवाए शौचालय

पीएम मोदी की स्वच्छता अभियान से प्रेरणा लेकर झारखंड में जमशेदपुर की मोंद्रिता चटर्जी ने पोटका गांव में दो शौचालय बनवाए। छठी क्लास की छात्रा मोंद्रिता ने 12 महीनों में 24 हजार रुपये बचाए। मोंद्रिता का कहना है कि दूसरे लोग भी इस तरह के काम कर स्वच्छता अभियान में हिस्सा ले सकते हैं।

हाई-वे पर सैल्यूट से सेना का सम्मान

14 अक्टूबर, 2016 को भोपाल में शौर्य स्मारक पर प्रधानमंत्री मोदी द्वारा शुरू किए गए ‘सैनिकों का सम्मान’ अभियान का लोग अनुसरण कर रहे हैं। अब बरेली और मुरादाबाद के बीच टोल बूथ पर काम कर कर कर्मचारी ‘सैनिकों के सम्मान’ में उन्हें सैल्यूट मारते हैं। वे सेना की गाड़ियों के ड्राइवर्स से पानी या अन्य किसी जरूरत के बारे में भी पूछते हैं।

…जब पीएम मोदी से प्रेरित होकर भारत के एथलीटों ने किया शानदार प्रदर्शन

13 अगस्त 2017 को पीएम मोदी ने ट्वीट किया, ”जीत और हार जीवन का हिस्सा है। सभी एथलीट बचे हुए खेल में अपनी क्षमता के मुताबिक अच्छा प्रदर्शन करें और वो परिणाम को लेकर किसी भी तरह का बोझ अपने मन पर नहीं रखें।” इसके बाद खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया और रियो ओलंपिक में भारत ने दो पदक हासिल किए। दोनों पदक महिला एथलीट्स ने जीते। भारतीय बैडमिंटन टीम के राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद ने कहा, ”हमारी जीत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ट्वीट का अहम योगदान रहा। इससे भारतीय खिलाड़ियों को बड़ी प्रेरणा मिली।”

LEAVE A REPLY