Home नरेंद्र मोदी विशेष 15 मई को Indian National Congress बन जाएगी PPP कांग्रेस: प्रधानमंत्री मोदी

15 मई को Indian National Congress बन जाएगी PPP कांग्रेस: प्रधानमंत्री मोदी

1077
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि 15 मई को कर्नाटक विधानसभा चुनावों के नतीजे आने के बाद इंडियन नेशनल कांग्रेस PPP कांग्रेस बन जाएगी जिसका मतलब है पंजाब-पुडुचेरी-परिवार कांग्रेस। प्रधानमंत्री ने कहा कि यह कर्नाटक ही है जिसे भारतीय जनता पार्टी को उत्तर से दक्षिण ले जाने का क्रेडिट जाता है और 15 मई को एक बार फिर कर्नाटक की जनता नया इतिहास रचने जा रही है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस को  राष्ट्रीय पार्टी से निकालकर के क्षेत्रीय पार्टी बनाने का काम कर्नाटक के लोग ही करेंगे।

कर्नाटक की पराजय भांपकर कांग्रेस में सबसे अधिक घबराहट

शुक्रवार को प्रधानमंत्री ने कर्नाटक के तुमकुरु, गडग, शिवमोगा और मंगलुरु में चार रैलियों को संबोधित किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि हिन्दुस्तान के हर कोने में जनता ने कांग्रेस को साफ कर दिया, लेकिन उन सब पराजय से कांग्रेस जितनी परेशान नहीं थी, उससे अधिक परेशान कर्नाटक की पराजय सामने देखकर हो रही है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यह परेशानी ये सोच-सोचकर है कि कर्नाटक से भी कांग्रेस चली गई तो राज्य की कांग्रेस सरकार के मंत्रियों और नेताओं ने लूट के पैसों के लिए जो टैंक बना रखा है उससे भी पैसों का दिल्ली आना बंद हो जाएगा। यानि परेशानी ये है कि कर्नाटक से कांग्रेस की सरकार गई तो दिल्ली पाइपलाइन तक पैसे कैसे जाएंगे?

कांग्रेस के C और करप्शन के C में फर्क नहीं

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस के सी और करप्शन का सी दोनों के बीच में अब कोई अंतर ही नहीं बचा है। आज भी कांग्रेस के नेता नोटबंदी को याद करके रोते हैं चिल्लाते हैं क्योंकि देश को पता है कि नोटबंदी के बाद कर्नाटक के कांग्रेस के कैसे-कैसे दिग्गजों के यहां से नोटों के बंडल निकले थे। प्रधानमंत्री ने कहा कि 2014 के पहले के दिन जरा याद कीजिए जब जल-थल-नभ हर जगह घोटाले ही नजर आते थे और उसी पैसे से कांग्रेस के  कारनामे चलते थे। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस में टिकट बांटने में इतना समय इसलिए लगा क्योंकि उसके यहां टिकट बांटने के लिए और नेता चुनने के लिए टेंडर सब कुछ के लिए टेंडर है।

कांग्रेस के चलते किसानों की हालत हुई इतनी बदतर

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस में आज जिसे ये भी नहीं पता है कि चने का पेड़ होता है या पौधा होता, जो आलू से सोना पैदा करने की सोचते हैं वो आज किसान-किसान कर रहे हैं। वोट पाने के लिए नई घोषणाएं रहे हैं लेकिन ये जवाब नहीं दे रहे कि आजादी के बाद कई दशकों तक सत्ता में रहकर ऐसा क्या किया जिससे देश के किसानों की हालत इतनी बदतर हो गई। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज किसानों की जो मुसीबतें हैं वो पुरानी कांग्रेसी सरकारों के काले कारनामों के कारण हैं और उनकी सरकार को भी कांग्रेस के पापों को धोना पड़ रहा है। श्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस के नेता पहले के हर चुनाव में गरीब-गरीब की माला जपते रहते थे, गरीबों की आंखों में धूल झोंकते थे और चुनाव जीतने के लिए खेल खेलते थे, लेकिन जबसे एक गरीब मां के बेटे को इस देश के गरीबों ने प्रधानमंत्री बना दिया तबसे कांग्रेस पार्टी ने गरीबों का नाम लेना बंद कर दिया। 

हेमवती-नेत्रवती नदियों को जोड़ने का होगा काम

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि पिछले 30-35 महीनों में उनकी सरकार ने एक लाख करोड़ रुपये से अधिक खर्च कर किसानों को पानी पहुंचाने के प्रयास किए हैं। किसानों को सिंचाई सुविधा देने से जुड़े देश के बड़े प्रोजेक्टों में से 5 कर्नाटक के हैं। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार बूंद-बूंद पानी बचाकर जल संरक्षण, ड्रिप इरिगेशन और माइक्रो इरिगेशन पर बल दे रही है। माइक्रो इगिगेशन को 24 लाख हेक्टेयर भूमि में देश भर में आगे बढ़ाया गया है। श्री मोदी ने कहा कि किसानों के नाम पर राजनीति करने वाले कांग्रेस के नेताओं से वे यह पूछना चाहते हैं कि हेमवती नदी का पानी तुमकुरु के किसानों को क्यों नहीं मिला? प्रधानमंत्री ने कहा कि वह ईमानदारी के साथ हेमवती और नेत्रवती नदियों को जोड़कर पानी पहुंचाने का काम पूरा करना चाहते हैं जो पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का सपना रहा है। इससे तुमकुरु और आसपास के लाखों किसानों को सीधा-सीधा लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि समस्याओं के समाधान के लिए नदियों को जोड़ना अहम है।

‘महादायी’ के नाम पर गुमराह करने में जुटी है कांग्रेस

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि महादायी नदी के नाम पर कांग्रेस पार्टी लोगों को गुमराह करने में लगी है। उन्होंने कहा कि राज्य के मौजूदा मुख्यमंत्री को नहीं पता कि खुद उनकी नेता सोनिया गांधी ने 2007 में गोवा चुनावों के दौरान महादायी को लेकर ये कहा था कि महादायी का पानी कर्नाटक को ना मिले, इसके लिए कांग्रेस पार्टी कमिटेड है। आज गोवा से कांग्रेस गायब है इसलिए अब वह कर्नाटक के लोगों को महादायी के नाम पर भड़का रही है। श्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने चाहे जो भी किया लेकिन उनकी पार्टी मिल-बैठकर इसका समाधान निकालने के लिए कृतसंकल्प है।

कांग्रेस और जेडीएस के बीच नूरा कुश्ती

श्री मोदी ने यह भी कहा कि विधानसभा चुनावों में कांग्रेस और जेडीएस नूरा कुश्ती कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि दोनों के बीच पर्दे के पीछे दरअसल एक साठगांठ है। श्री मोदी कहा कि लगभग सारे चुनाव सर्वेक्षण कह रहे हैं कि कर्नाटक चुनावों में जेडीएस नंबर तीन पर रहेगी, वह सरकार नहीं बना सकती है, इसलिए उसे अपना वोट देकर वोट खराब ना करें। अगर सरकार कोई बदल सकती है, तो भारतीय जनता पार्टी ही बदल सकती है।

कर्नाटक की मौजूदा सरकार को कामगारों की चिंता नहीं

गडग की जनसभा में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि यह सांस्कृतिक विरासत के साथ-साथ कामगारों की भी धरती है। यहां के श्रमशील लोगों ने पसीना बहाकर इस क्षेत्र की पहचान बनाई लेकिन पिछले पांच साल से कर्नाटक में ऐसी सरकार है जिसे कामगारों की नहीं, बल्कि खुद के कमाने की, जेब भरने की चिंता है। वहीं केंद्र सरकार ने खादी और हैंडलूम के क्षेत्र में ऐसे प्रयास कर दिखाए हैं जिनसे उत्पादन और कारोबार बढ़ने के साथ गरीबों की रोजी भी बढ़ी है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 2022 तक वे दो काम पक्का करना चाहते हैं..एक तो किसानों की इनकम डबल करना और दूसरा ये कि हिन्दुस्तान में कोई परिवार ऐसा नहीं हो जिसका अपना घर ना हो। उन्होंने कहा कि एक तरफ केंद्र सरकार ने गरीब से गरीब को घर देने का बीड़ा उठाया है लेकिन कर्नाटक की सरकार इस काम में रोड़ा अटकाने में लगी है।

येदियुरप्पा के साथ कांग्रेस कर रही गलत व्यवहार

शिवमोगा की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जनसभा में भारतीय जनता पार्टी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा भी मौजूद थे। श्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा के साथ गलत व्यवहार कर रही है, उनके लिए गलत भाषा का प्रयोग करने में लगी है। उन्होंने कहा कि किसान पुत्र येदियुरप्पा के गरीब के घर जाने का कांग्रेस ने जिस प्रकार से मजाक उड़ाया वह पूरे देश के गरीबों का अपमान है। प्रधानमंत्री ने कहा कि शिवमोगा का क्षेत्र सुपारी के लिए प्रसिद्ध है। पूरे भारत की आधी सुपारी इसी क्षेत्र में पैदा होती है लेकिन कांग्रेस के नेतृत्व वाली पूर्ववर्ती यूपीए सरकार ने सुपारी को स्वास्थ्य के लिए हानिकारक बताकर किसानों के साथ बड़ा खिलवाड़ करने का काम किया था। उन्होंने कहा कि येदियुरप्पा के विरोध के बाद ही कांग्रेस को यूटर्न लेने पर मजबूर होना पड़ा था। उन्होंने येदियुरप्पा की ये कहते प्रशंसा की कि उन्होंने बीजेपी के मैनिफेस्टो में सुपारी पैदा करने वाले किसानों की बेहतरी का वादा किया है।

Leave a Reply