Home समाचार अब बुंदेलखंड में बहेगी विकास की बयार- झांसी में प्रधानमंत्री मोदी

अब बुंदेलखंड में बहेगी विकास की बयार- झांसी में प्रधानमंत्री मोदी

713
SHARE

बुंदेलखंड को विकास कार्य का तोहफा देने झांसी आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम इरादे लेकर निकलते हैं तो उसे पूरा कर के ही लौटते हैं। मोदी ने इस मौके पर बुंदेलखंड और यूपी से जुड़े 20 लाख करोड़ के विकास कार्य का शिलान्यास किया। उन्होंने कहा “पिछले लोकसभा चुनाव के समय मैंने यहां की जनता से जो वादा किया था आज उसे ही ब्याज समेत चुकाने आया हूं।“ 

बुंदेलखंड को विकास से जोड़ने के लिए झांसी आए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत पुलवामा आतंकी हमले से ही की। उन्होंने कहा कि आज देश बहुत ही उद्वेलित और दुखी है। यहां आए सभी की भावनाओं को भी भलीभांति समझ रहा हूं। उन्होंने कहा है कि आतंकवादियों ने जो हमला किया है उससे हर भारतीय आक्रोशित है। हमारे जवानों ने देश की सेवा में अपने जान की आहूति दी है। उनका यह बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा।

उन्होंने कहा कि हमारे सैनिकों का शौर्य और पराक्रम सब ने देखा है। हमें अपनी सेना के शौर्य और सामर्थ्य पर बहुत भरोसा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि कार्रवाई तय करने के लिए समय, स्थान और स्वरूप तय करने की इजाजत सुरक्षा बलों को दे दी गई है। इसलिए पुलवामा के हमलावरों और साजिशकर्ताओं को उनके किए की सजा जरूर मिलेगी। उन्होंने कहा कि हमारा पड़ोसी देश यह भूल रहा है कि यह नई रीति और नई नीति वाला भारत है। आतंकवादियों ने जो हैवानियत दिखाई है उसका हिसाब किया जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि आर्थिक बदहाली के कारण आज हमारा पड़ोसी देश दुनिया में अलग-थलग पड़ गया है। बड़े-बड़े देश उससे दूरी बनाने लगे हैं। रोजमर्रा का खर्च चलाना भी मुश्किल हो रहा है। कटोरा लेकर घूम रहा है लेकिन मदद नहीं मिल पा रही है। बदहाली के इस दौर में भी वह पुलवामा जैसे आंतकी हमले को अंजाम देकर सोचता है कि वह इससे भारत को भी बदहाल कर देगा। उन्होंने कहा कि वह समझ ले कि जो रास्ता उसने अपनाया उससे उसे बर्बादी मिली है हमने जो रास्ता अपनाया है उसकी उन्नति दुनिया देख रही है। इस मौके पर उन्होंने कहा कि उसके मंसूबों को 130 करोड़ भारतीय मुंहतोड़ जवाब देंगे।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यह धरती मणिकर्णिका और झांसी की है, यह राष्ट्रभक्ति से लेकर आस्था तक को नई ऊंचाई देने वाली धरती है। उन्होंने कहा कि मणिकर्णिका वाराणसी की बेटी थी और आज मैं उसी वाराणसी का सांसद हूं। इस प्रकार उनकी जन्मभूमि मेरी कर्मभूमि है। उन्होंने कहा कि जब मैं पहली बार आया था तब हमने वादा किया था कि आपका दिया हुआ ब्याज समेत लौटाऊंगा। हम वादा निभानों वालों में से हैं इरादे लेकर निकलते हैं तो उसे पूरा कर के लौटते हैं।

मोदी ने बुंदेलखंड और यूपी से जुड़े 20 लाख करोड़ के विकास कार्य का शिलान्यास किया है। इसमें सुरक्षा, विकास, रेल आदि प्रोजेक्ट जुड़े हैं। झांसी से आगरा तक बन रहे डिफेंस कॉरिडोर से जहां यहां के लोगों को रोजगार मिलेगा। वहीं पाइप लाइनों से पीने का पानी उपलब्ध कराने वाली योजना इस इलाके के लिए लाइफ लाइन साबित होने वाली है। दुनिया भर के लोग अब यहां निवेश करते को आतुर है। साढ़े चार हजार करोड़ रुपये के निवेश तो हो भी चुके हैं। अब देसी कंपनियों के साथ विदेशी कंपनियां भी उद्योग लगाने वाली हैं। बड़े उद्योग लगने से छोटे और मझोले उद्योगों का भी विकास होगा। बुंदेलखंड जैसा क्षेत्र भी अब औद्योगिक क्षेत्र बन जाएगा।

बुंदेलखंड के विकास के लिए कच्छ का उदाहरण देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि गुजरात का एक जिला है कच्छ। 2001 से पहले वह एक ऐसा जिला था जहां न कोई सरकारी अधिकारी जाना चाहता था न ही कोई वहां रहना चाहता था। कच्छ के लोगों को कोई अपनी बेटी देने को तैयार नहीं होता था। लेकिन 2001 के बाद उसकी सूरत इतनी बदल गई कि अब वह प्रदेश के चुनिंदा समृद्ध जिलों में शुमार है। उन्होंने कहा कि कच्छ का विकास मैंने अपनी आंखों से देखा है इसलिए विश्वास है कि बुंदेलखंड का भी विकास होकर रहेगा।

पानी बुंदेलखंड की सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक रहा है। तभी तो प्रधानमंत्री ने कहा कि आप लोगों को पानी संकट से मुक्ति दिलाने आया हूं। उन्होंने कहा कि यहां आज 9000 करोड़ रुपये से पाइप लाइन योजना शुरू की गई है। योजना पूरी होते ही यह पाइप लाइन इस क्षेत्र की लाइफ लाइन बन जाएगी। इसी प्रकार झांसी शहर और उसके आस पास के इलाकों को अमृत योजना के तहत जोड़ा जाएगा। ये सारी योजनाएं वर्तमान आवश्यकताओं के साथ भविष्य की आवश्यकताएं भी पूरी करेंगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन के दौरान देश के साथ बुदेलखंड के किसानों को मिलने वाले लाभ के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि किसान सम्मान योजना के तहत 5 एकड़ से कम जमीन वाले देश के सभी किसानों को साढ़े छह हजार रुपये सालाना देने के लाभ के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि इस योजना से यूपी के 2.25 करोड़ में से 2.17 करोड़ किसानों को लाभ मिलेगा। सबसे बड़ी बात है कि सारे किसानों को मिलने वाले पैसे सीधे उनके खाते में जमा होंगे। क्योंकि मोदी सरकार में कोई बिचौलिया नहीं है। इससे देश का हर साल एक लाख करोड़ रुपये बच रहा है। मोदी ने कहा है कि किसानों के साथ पशुपालकों और मछली पालकों को भी किसान क्रेडिट कार्ड से लोन देने का प्रावधान किया है। मोदी सरकार ने ऋण की सीमा भी बढ़ा दी है। पहले जहां किसानों को सिर्फ एक लाख रुपये कर्ज मिलता था लेकिन अब बगैर किसी गारंटी के 1.60 लाख रुपये का लोन लिया जा सकता है। मोदी सरकार ने पशुओं के लिए कामधेनु योजना के तहत पांच सौ करोड़ रुपये का प्रावधान किया है।

Leave a Reply