Home समाचार पीएम मोदी ने झारखंडवासियों को दी कई कल्याणकारी परियोजनाओं की सौगात, तीन...

पीएम मोदी ने झारखंडवासियों को दी कई कल्याणकारी परियोजनाओं की सौगात, तीन मेडिकल कॉलेजों का किया उद्घाटन

152
SHARE

 

झारखंड दौरे पर आए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हजारीबाग में रविवार को यानि 17 फरवरी 2019 को कई विकास और जन कल्याणकारी परियोजनाओं की सौगात दी है। इस मौके पर उन्होंने झारखंड में तीन नवनिर्मित मेडिकल कॉलेज भवन के साथ साहेबगंज ट्रीटमेंट प्लांट का उद्घाटन किया। ध्यान रहे कि प्रधानमंत्री मोदी ने ही साल 2017 में हजारीबाग, पलामू और दुमका में अत्याधुनिक मेडिकल कॉलेज का शिलान्यास किया था और 17-2-2019 को उन्होंने ही इन तीनों मेडिकल कॉलेजों का उद्घाटन किया है। इतनी तेज गति से विकास कार्य होने का कहीं कोई और उदाहरण शायद ही देखने को मिले। इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कई जलापूर्ति योजनाओं का उद्घाटन करने के साथ कई परियोजनाओं का शिलान्यास भी किया है जिसे एक साल में पूरी करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने हजारीबाग में आयोजित जनसभा में अपने संबोधन की शुरुआत भगवान बिरसा मुंडा को याद करते हुए की। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि बीते चार सालों से हो रहे विकास कार्यों को और गति देने आया हूं। यहां शुरू हुई जन कल्याणकारी योजनाओं के लिए यहां के लोगों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि झारखंड क्रांति और आंदोलन की धरती है। उन्होंने पुलवामा में शहीद हुए वीरेन सोरने को श्रद्धांजलि दी। पीएम मोदी ने कहा कि एक अभिभावक के रूप में उनके परिजनों की देखभाल करनी है।

अपने संबोधन के दौरान पीँएम मोदी ने कहा कि आयुष्मान भारत योजनाओं का लाभ यहां के लोगों को हुआ है। इसी योजना के तहत गंभीर बीमारी से ग्रस्त यहां के 57 हजार लोगों को मुफ्त इलाज मिला है। झारखंड में स्वास्थ्य सुविधाओं को मजबूत करने के लिए केंद्र सरकार निरंतर प्रयास कर रही है। हजारीबाग, दुमका, और पलामू में मेडिकल कॉलेज इन्हीं प्रयास का नतीजा है। अब यहां के लोगों को मेडिकल की पढ़ाई करने की सुविधा के साथ इलाज की सुविधा मिलेगी। क्योंकि यहां 500 बेड वाले मेडिकल अस्पताल का भी निर्माण किया गया है।

पीएम मोदी ने कहा कि हमारी सरकार को 11 परियोजनाओं का उद्घाटन करने के साथ शिलान्यास करने का मौका मिला है। यहां कई सिंचाई परियोजनाएं शुरू की गई है। इससे कई इलाकों की जमीन सिंचाई के अंतर्गत आ जाएंगी। ये सारी परियोजनाएं प्रदेश के किसानों के वर्तमान से भविष्य को उज्ज्वल करेंगे। मोदी ने कहा कि किसान परिवारों को स्मार्ट फोन देने की शुरुआत की गई। इन परियोजनाओं से 27 लाख किसानों को फायदा होगा। इससे डिजिटल ट्रांजेक्शन करने के साथ सरकार की अन्य कल्याणकारी योजनाओं से जुड़ सकेंगे। किसानों को बिचौलियों से मुक्ति दिलाना हमारा ध्येय है। हर सरकारी मदद सीधे लाभार्थियों के खाते में भेजी जा रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार किसान सम्मान निधि लेकर आई है। इस योजना के तहत 5 एकड़ से कम भूमि वाले किसानों के लिए अगले दस सालों में साढ़े साल लाख रुपये खाते में जमा करेगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत हर साल किसानों के खाते में छह हजार रुपये देगी। इससे देश के किसी किसान को खाद बीज के लिए किस साहूकारों से ऊंचे ब्याज दर पर ऋण लेने की जरूरत नहीं होगी। पीएम मोदी ने कहा कि प्रदेश से लेकर केंद्र सरकार तक सब का साथ सब विकास के मंत्र के साथ समाज के हर वर्ग को सशक्त करने में जुटी है।

महिलाओं और आदिवासियों के लिए शिक्षण संस्थान

अपने संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है जिस तेज गति से झारखंड में मूलभूत सुविधाओं का विकास हुआ है इसका उदाहरण कहीं और नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा कि झारखंड में पिछले सत्तर सालों में तीन मेडिकल कॉलेज और अस्पताल बनाए गए जबकि यहां पिछले पौने पांच सालों में ही आठ शिक्षण संस्थान खोले गए हैं। रामगढ़ में पहला महिला इंजीनियरिंग कॉलेज का उद्घाटन हुआ है। उन्होंने कहा कि यह कॉलेज पूर्वी भारत में ऐसा पहला और देश में तीसरा संस्थान है जहां सिर्फ बेटियां ही इंजीनियर बन सकेंगी। इसके साथ ही हजारीबाग में सेंटर फॉर ट्राइबल स्टडीज का शिलान्यास किया गया है। इस मौके पर उन्होंने कहा कि इस बार 26 जनवरी को आयोजित गणतंत्र परेड में झारखंड की बेटी शिखा सुरभि ने जो हुनर दिखाया है उसकी चर्चा पूरे देश में हो रही है। आचार्य विनोबा भावे विश्वविद्यालय में सेंटर फॉर ट्राइबल स्टडीज की शुरुआत की गई है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि झारखंड समेत देश के हर आदिवासी क्षेत्र में एकलव्य आदर्श स्कूल खोले जा रहे हैं। इसके तहत 2 दर्जन स्कूल खोले जा चुके है और 70 स्कूलों के खोलने काम चल रहा है।

इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कान्हा गुप्त योजना के लिए मुख्यमंत्री रघुवर दास की भी प्रशंसा की। इस योजना के तहत बच्चों के पोषण के लिए उन्हें फैकेट में दूध दिया जाना है। इससे बच्चों को कुपोषण से मुक्ति मिलेगी। मोदी ने कहा कि स्वच्छता के क्षेत्र में भी झारखंड ने प्रशंसनीय काम किया है। झारखंड ने खुद को खुले में शौच से मुक्त कर लिया है। पिछले चार सालों में झारखंड में 33 लाख टॉयलेट बनाए गए हैं। झारखंड का रिकॉर्ड इस मामले में सबसे अच्छा है

अपने संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि विकास और कल्याणकारी योजनाएं शुरू होने से लेकर उसे पूरी होने का एकमात्र कारण है कि साढ़े चार साल पहले आपने एक मजबूत सरकार चुनने का फैसला किया था। अगर आप इसी प्रकार मजबूत सरकार चुनते रहेंगे तो तेज गति से होने वाले आपके विकास को कोई नहीं रोक पाएगा।

LEAVE A REPLY