Home समाचार प्रधानमंत्री मोदी का लेह में जोरदार स्वागत, किया जोजिला सुरंग का शिलान्यास-...

प्रधानमंत्री मोदी का लेह में जोरदार स्वागत, किया जोजिला सुरंग का शिलान्यास- देखिए तस्वीरें

1215
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आज शनिवार को जम्मू-कश्मीर के लेह में जोरदार स्वागत किया गया। जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल एनएन वोहरा, मुख्यमंत्री मेहबूबा मुफ्ती ने हवाई अड्डे पर उनका स्वागत किया। हवाईअड्डे पर पहुंचने के बाद प्रधानमंत्री सड़क पर रुके और उन्होंने स्वागत के लिए आए लोगों से मुलाकात की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मौके पर बौद्ध धर्मगुरू कोशिक बांकुला रिंपोचे को श्रद्धासुमन अर्पित किए। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी समेत कई अन्य अधिकारी भी उनके साथ मौजूद हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने लेह में जोजिला टनल निर्माण का शिलान्यास किया। प्रधानमंत्री ने जोजिला सुरंग पर काम की शुरुआत के लिए एक पट्टिका का अनावरण किया।

पाकिस्तान और चीन के साथ सीमा साझा करने वाले इस क्षेत्र में मोदी की यह दूसरी यात्रा है। श्रीनगर से 450 किलोमीटर उत्तर में स्थित लेह में मोदी इससे पहले 12 अगस्त 2014 को आए थे और तब उन्होंने एक जल विद्युत परियोजना का शुभारंभ किया था। उन्होंने ट्वीट कर कहा , ‘मैं गर्मजोशी भरे स्वागत के लिए लेह के शानदार लोगों का आभार जताता हूं। मैं यहां आकर खुश हूं।’

जोजिला टनल भारत का सबसे लंबा सड़क सुरंग
14 किलोमीटर लंबा जोजिला सुरंग भारत का सबसे लंबा सड़क सुरंग है और एशिया का सबसे लंबा दो दिशाओं वाला सुरंग है। प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की आर्थिक मामलों की समिति ने इस वर्ष राष्ट्रीय राजमार्ग- 1ए के श्रीनगर-लेह सेक्शन पर बालटाल और मीनामार्ग के बीच 6800 करोड़ रुपये की लागत से सुरंग के निर्माण, संचालन और रखरखाव की स्वीकृति दी थी। इस सुरंग के निर्माण से श्रीनगर-करगिल तथा लेह के बीच सभी मौसमों में सड़क संपर्क बना रहेगा। इससे जोजिला दर्रा पार करने में लगने वाले समय में कमी होगी। फिलहाल जोजिला दर्रा पार करने में साढ़े तीन घंटे लगते हैं और सुरंग बनने पर केवल 15 मिनट में जोजिला दर्रा पार किया जा सकेगा। इस सुरंग से इन क्षेत्रों का समग्र आर्थिक तथा सामाजिक-सांस्कृतिक एकीकरण होगा। इसका काफी रणनीतिक महत्व है।

प्रधानमंत्री मोदी ने इसके बाद श्रीनगर के शेरे-कश्मीर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन केन्द्र (एसकेआईसीसी) में 330 मेगावाट का किशनगंगा जल विद्युत परियोजना राष्ट्र को समर्पित किया। 

 

Leave a Reply