Home नरेंद्र मोदी विशेष नए भारत में भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद और परिवारवाद के लिए जगह नहीं- प्रधानमंत्री...

नए भारत में भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद और परिवारवाद के लिए जगह नहीं- प्रधानमंत्री मोदी

218
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज फ्रांस में भारतीय समुदाय को संबोधित किया। प्रधानमंत्री मोदी के स्वागत के लिए बड़ी संख्या में भारतीय झंडे के साथ पहुंचे थे। पीएम मोदी ने भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि आज नए भारत में भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद, परिवारवाद, जनता के पैसे की लूट, आतंकवाद पर जिस तरह लगाम कसी जा रही है वैसा पहले कभी नहीं हुआ। नए भारत में थकने, रुकने का सवाल ही पैदा नहीं होता।

प्रधानमंत्री ने कहा कि ये जनादेश सिर्फ एक सरकार चलाने के लिए नहीं, बल्कि नए भारत के निर्माण के लिए है। ऐसा नया भारत जिसकी समृद्ध सभ्यता और संस्कृति पर पूरे विश्व को गर्व हो, और जो 21वीं सदी की आधुनिकता को भी लीड करे।

उन्होंने कहा कि, ‘हमने पिछले 5 वर्षों में कुछ ऐसे गोल रखे, जो पहले नामुमकिन माने जाते थे। लेकिन टीम स्पिरिट की भावना से हमने उन लक्ष्यों को प्राप्त करके दिखाया है। पूरी दुनिया में एक तय समय में सबसे ज्यादा बैंक अकाउंट अगर किसी देश में खुले हैं, तो वो भारत है। पूरी दुनिया की अगर आज सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा की स्कीम किसी देश में चल रही है, तो उस देश का नाम भारत है।’

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इन दिनों पेरिस राम की भक्ति में रम गया है। उन्होंने कहा कि पूज्य बापू की स्मृति में राम की भक्ति में डूब गया है। जो लोग अपना समय इंद्र के लिए नहीं बदलते आज नरेंद्र के लिए बदला है। पूज्य बापू में रामभक्ति भी है और राष्ट्रभक्ति भी।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘भारत और फ़्रांस के बीच संबंध सैकड़ों साल पुराना है। हमारी दोस्ती किसी स्वार्थ पर नहीं, बल्कि ‘लिबर्टी, इक्वलिटी और फ्रेटरनिटी’ के ठोस आदर्शों पर टिकी है। भारत और फ्रांस की मित्रता अटूट है। ये मित्रता से कहीं आगे है। ये वर्षों पुरानी है। ऐसा कोई वैश्विक मंच नहीं होगा जहां भारत और फ्रांस ने एक दूसरे का समर्थन न किया हो और साथ काम न किया हो।’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘जब भारत या फ्रांस को कोई उपलब्धि प्राप्त होती है तो हम एक दूसरे के लिए खुश होते हैं। भारत में फ्रांस की फुटबॉल टीम के समर्थकों की संख्या शायद जितनी फ्रांस में नही होगी, उससे ज्यादा भारत में होगी। मैं फ्रांस की सरकार, राष्ट्रपति मैक्रों, और फ्रांस की जनता का मुझे आमंत्रित करने और आप सभी से मिलने का अवसर देने के लिए आभार व्यक्त करता हूं।’

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘मैंने पहले कहा था कि भारत आशाओं और आकाक्षांओं के सफर पर निकलने वाला है। आज मैं आपसे नम्रता से कहना चाहता हूं कि हम न सिर्फ उस सफर पर निकल चुके हैं, बल्कि 130 करोड़ देशवासियों के प्रयासों से भारत तेज गति से विकास के रास्ते पर आगे बढ़ रहा है।’

उन्होंने कहा, ‘भारत में पिछले पांच सालों में ढेर सारे सकारात्मक बदलााव हुए हैं। इन बदलावों के केंद्र में भारत की युवा शक्ति, भारत के गांव, गरीब, किसान और नारी शक्ति इसके केंद्र बिंदु में रहे हैं।’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘नई सरकार को बने ज्यादा दिन नहीं हुए हैं, अभी सिर्फ 75 दिन ही हुए हैं। स्पष्ट नीति और सही दिशा से प्रेरित होकर एक के बाद एक कई बड़े फैसले लिए गए हैं। नई सरकार बनते ही जल शक्ति के लिए एक नए मंत्रालय को बनाया गया।’

उन्होंने कहा, ‘आज अगर भारत और फ्रांस दुनिया के बड़े खतरों से लड़ने में नजदीकी सहयोग कर रहे हैं तो उसका कारण भी यह साझा मूल्य ही है। चाहे वह आंतकवाद हो या फिर क्लाइमेट चेंज।’

उन्होंने कहा, ‘आप सभी जानते हैं कि 7 सितंबर को हम सभी का चंद्रयान-2 चांद पर उतरने वाला है। इस उपलब्धि के बाद भारत चांद पर उतरने वाला दुनिया का चौथा देश बन जाएगा। भारत और फ्रांस एक दूसरे के लिए लड़े भी हैं और जिए भी हैं। दोनों देशों ने कंधे से कंधा मिलाकर दुश्मनों से मुकाबला किया है। यही वो धरती है जहां प्रथम विश्व युद्ध में 9000 भारतीय सैनिकों ने फ्रांस के सैनिकों के साथ मानवता के पक्ष में लड़ते हुए अपने प्राणों की आहुति दे दी’

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘भारत और फ्रांस की दोस्ती ठोस आदर्शों पर बनी है। दोनों देशों के चरित्र का निर्माण ‘लिबर्टी, इक्वलिटी और फ्रेटरनिटी’ के साझा मूल्यों से हुआ है। आज अगर भारत और फ्रांस दुनिया के बड़े खतरों से लड़ने में नजदीकी सहयोग कर रहे हैं तो उसका कारण भी यह साझा मूल्य ही है।’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘दुनिया में क्लाइमेट चेंज की बातें तो बहुत होती है मगर उन पर कार्य होता हुआ कम ही दिखाई देता है। हमने राष्ट्रपति मेक्रों के साथ मिलकर इंटरनेशनल सोलर अलाएंस की पहल की। 21वीं सदी में INFRA की बात होती है। मेरा INFRA का मतलब है- IN यानि INDIA और FRA यानि FRANCE. Solar Infra से लेकर Social Infra तक, Technical Infra से लेकर Space Infra तक, Digital Infra से लेकर Defence Infra तक। भारत और फ्रांस का Alliance मजबूती से आगे बढ़ रहा है।’

Leave a Reply