Home समाचार इजरायली पीएम नेतन्याहू ने मंच से ही स्वीकार किया भारत आने का...

इजरायली पीएम नेतन्याहू ने मंच से ही स्वीकार किया भारत आने का न्यौता

1802
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त प्रेस वार्ता के दौरान ही इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू को सपरिवार भारत आने का न्यौता दिया जिसे इजरायली प्रधानमंत्री ने सहर्ष स्वीकार किया। संयुक्त प्रेस वक्तव्य जारी करते हुए दोनों प्रधानमंत्री ने एक-दूसरे की जमकर तारीफ की। इस दौरान दोनों देशों के अधिकारियों ने कृषि, गंगा सफाई, सिंचाई, अंतरिक्ष साइंस समेत कई समझौते से संबंधित दस्तावेजों का आदान-प्रदान भी किया।

दोस्ती की नई इबारत
इजरायल पीएम नेतन्याहू ने संयुक्त प्रेस वार्ता में पीएम मोदी को एक बार फिर ‘मेरे दोस्त’ कहकर संबोधित किया। उन्होंने कहा कि कल मोदी जी ने कहा था कि हम मिलकर दुनिया बदल सकते हैं, लेकिन अब मुझे लग रहा है कि हम कई क्षेत्रों में मिलकर नई इबारत लिख सकते हैं। हमें कई संभावनाएं नजर आ रही हैं। दो दिनों में पीएम मोदी से हुई बातचीत के बाद काफी उत्साहित हूं। हम बात कर रहे हैं एक साथ काम करने की, हम बात कर रहे हैं तीसरी दुनिया की, हम आतंकवाद की चुनौती झेल रहे हैं। हम अब एक-दूसरे के साथ इस मामले में मिलकर लड़ेंगे। अपने भाषण के बाद नेतन्याहू ने एक बार फिर मोदी को मेरे दोस्त कहा और गले लगाया।

पीएम ने इजरायल को बताया इनोवेशन, एग्रीकल्चर का लीडर
वहीं, पीएम मोदी ने अपने संबोधन में सबसे पहले इजरायली पीएम नेतन्याहू को धन्यवाद देते हुए शानदार डिनर का भी जिक्र किया। पीएम मोदी ने कहा कि इजरायल आकर सम्मानित महसूस कर रहा हूं। उन्होंने कहा कि हमारे बीच कई तरह के मुद्दों पर बातचीत हुई। हमने बात की कि कैसे हम आपस में मिलकर विश्व में स्थिरता और शांति स्थापित कर सकते हैं। इजरायल नई खोज, पानी, और कृषि में सबसे आगे है। भारत के विकास के लिए इन अनुसंधानों की जरूरत है। हम अपनी दोस्ती को नई ऊंचाई देंगे।

भौगोलिक तौर पर सुरक्षा मिलकर करेंगे
पाकिस्तान का नाम लिए बगैर पीएम मोदी ने सीमापार आतंकवाद की बात की। उन्होंने कहा कि भारत और इजरायल भौगोलिक तौर पर काफी परेशान रहता है। हम एक-दूसरे को भौगोलिक तौर पर सुरक्षा दिलाने की भी कोशिश करेंगे। भारत के यहूदी हमें हमारे रिश्तों की याद दिलाते हैं। इजरायल के तमाम टूरिस्ट भारत आते हैं। इसी तरह भारत के तमाम छात्र इजरायल की यूनिवर्सिटी में पढ़ने की उम्मीद रखते हैं। हाइवा हमारे देश का प्रिय है, जहां भारत के तमाम वीरों ने पहले विश्वयुद्ध के दौरान अपनी आहुति दी थी।

आई फॉर इंडिया, आई फॉर इजरायल
इससे पहले राष्ट्रपति रिवलिन ने भी प्रोटोकॉल तोड़कर पीएम मोदी का स्वागत किया। दोनों नेता एक-दूसरे से गले भी मिले। इस मुलाकात के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि दोनों देशों के नाम की शुरुआत आई से होती है। आई फॉर इंडिया और आई फॉर इजरायल यानी इंडिया इजरायल के लिए है और इजरायल इंडिया के लिए है। उन्होंने कहा कि आई विद इजरायल और आई विद इंडिया यानी इंडिया इजरायल के साथ और इजरायल भारत के साथ। इस अवसर पर पीएम मोदी ने इजरायल की नई परिभाषा दी। उन्होंने कहा कि इजरायल का मतलब होता है इजरायल इज रियल फ्रेंड।

प्रोटोकॉल तोड़कर मिलना सवा सौ करोड़ भारतीयों का सम्मान
पीएम मोदी ने इजरायली राष्ट्रपति से कहा कि आप प्रोटोकॉल तोड़कर लेने आए, यह आपका सवा सौ करोड़ भारतीयों के प्रति प्रेम है। वहीं, इजरायली राष्ट्रपति ने कहा कि पीएम मोदी दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के बड़े नेता हैं। उन्होंने कहा कि उनको अपनी भारत यात्रा याद रहेगी। यह दोनों देशों की दोस्ती के लिए ऐतिहासिक दिन है।

Leave a Reply