Home नरेंद्र मोदी विशेष मगहर में बोले प्रधानमंत्री मोदी, कुछ दलों को शांति और विकास नहीं...

मगहर में बोले प्रधानमंत्री मोदी, कुछ दलों को शांति और विकास नहीं बल्कि कलह और अशांति चाहिए

274
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संत कबीरदास के महापरिनिर्वाण स्थल मगहर में जनसभा को संबोधित करते हुए जहां एक तरफ बताया कि केंद्र सरकार किस तरह गरीबों के उत्थान के लिए दिखाए गए संत कबीर के रास्ते पर चल रही है, वहीं दूसरी तरफ उन्होंने विरोधी दलों को सत्तालोलुपता के लिए आड़े हाथों लिया। प्रधानमंत्री ने कहा, “कुछ दलों को देश में शांति और विकास नहीं चाहिए बल्कि उन्हें कलह और अशांति चाहिए। इन दलों को लगता है कि असंतोष और अशांति का वातावरण बनाएंगे तो राजनीतिक लाभ होगा। जबकि सच्चाई यह है कि ऐसे लोग जमीन से कट चुके हैं।” प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कबीरदास जी कहते थे कि अपने भीतर झांको तो सत्य मिलेगा, लेकिन ऐसे लोगों ने कबीर को कभी गंभीरता से पढ़ा ही नहीं। कबीर दास जी कहते थे, “पोथी पढ़ि पढ़ि जग मुआ, पंडित भया न कोय, ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय।”

आदर्श शासक वही जो जनता की पीड़ा दूर करे
श्री मोदी ने कहा कि कबीरदास जी कहते थे, आदर्श शासक वही है, जो जनता की पीड़ा को दूर कर सके। अफसोस की बात है कि आज कई परिवार खुद को जनता का भाग्यविधाता मानकर संत कबीर की बातों को भुलाने में लगे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज समाज और बहुजन की बातें करने वालों का हम लालच देख रहे हैं। दो दिन पहले ही देश में आपातकाल के 43 साल हुए हैं। सत्ता का लालच ऐसा है कि आपातकाल लगाने और उसका विरोध करने वाले आज कंधे से कंधा मिलाकर कुर्सी लेने की फिराक में घूम रहे हैं। ये देश और समाज नहीं बल्कि अपने परिवार को लेकर चिंतित हैं। गरीबों, दलितों, वंचितों, शोषितों को धोखा देकर अपने लिए करोडो़ं के बंगले बनाने वाले लोग हैं। ये लोग अपने रिश्तेदारों को करोड़ों-अरबों का मालिक बनाने में लगे हैं। ऐसे लोगों से उत्तर प्रदेश और देश के लोगों को सतर्क रहने की जरूरत है।

निजी लाभ के लिए समाजिक बुराइयां दूर नहीं करना चाहती कुछ पार्टियां
तीन तलाक की चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- ”मुस्लिम बहनें तीन तलाक को हटाने की लगातार मांग कर रही हैं, लेकिन यह राजनीतिक लोग, सत्ता का खेल खेलने वाले इसमें रोड़े अटका रहे हैं। अपने निजी लाभ के लिए सामाजिक बुराइयों को खत्म नहीं करना चाहते हैं।” पीएम मोदी ने कहा कि गरीबी हटाने के नाम पर ये लोग गरीबों को वोट बैंक की सियासत के लिए प्रयोग करते रहे।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पिछले चार वर्षों में हमारी सरकार ने गरीब, दलित, पीड़ित, शोषित, वंचित, महिलाओं, नौजवानों को सशक्त करने का काम किया है। उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत 5 करोड़ लोगों के बैंक खाते खुले हैं। 80 लाख महिलाओं को उज्ज्वला योजना के तहत गैस कनेक्शन दिया गया है। 1 करोड़ 70 लाख लोगों को सुरक्षा बीमा कवच दिया गया है। उत्तर प्रदेश के गांवों में सवा सौ करोड़ शौचालय बनाए गए हैं, इतना ही नहीं डीबीटी के जरिए सीधे खातों में पैसा ट्रांसफर कर गरीबों को सशक्त करने का काम किया गया है। सरकार ने आयुष्मान भारत से गरीब परिवारों को सस्ती, सुलभ स्वास्थ्य सेवा देने का बड़ा बीड़ा उठाया है। गरीब का आत्मसम्मान और उसका जीवन आसान बनाना सरकार की प्राथमिकता है।

देश में तीव्र गति से हो रहा है विकास
प्रधानमंत्री मोदी ने कबीर को श्रमयोगी बताते हुए कहा कि वे काल करे सो आज कर में विश्वास करते थे। आज देश में तेजी से विकास कार्य हो रहा है। दोगुनी गति से सड़कें बनाई जा रही हैं, एयरपोर्ट बनाए जा रहे हैं, हर पंचायत तक ऑप्टिकल फाइबर बिछाई जा रही है। यह सब कबीर के दिखाए मार्ग का ही प्रतिबिंब है, यह सबका साथ सबका विकास मंत्र की भावना है। प्रधानमंत्री ने कहा कि कबीर के समय में मगहर को ऊसर और अभिशप्त माना गया था, उसी तरह आजादी के इतने वर्षों बाद भी देश के कई हिस्सों में विकास की रोशनी नहीं पहुंच पाई थी। पूर्वी यूपी और पूर्वोत्तर भारत विकास के लिए तरस गया था। हमारी सरकार का प्रयास है कि भारत भूमि की एक-एक इंच जमीन को विकास की धारा के साथ जोड़ा जाए। पीएम मोदी ने कहा कि सरकार मगहर को अंतरराष्ट्रीय मानचित्र पर विकसित करने का कम कर रही है। इसी तरह के स्थलों को विकसित करने के लिए स्वदेश दर्शन योजना के तहत रामायण सर्किट, सूफी सर्किट का विकास किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY