Home नरेंद्र मोदी विशेष टेक्नोलॉजी का मिरैकल है जोजिला टनेल: प्रधानमंत्री मोदी

टेक्नोलॉजी का मिरैकल है जोजिला टनेल: प्रधानमंत्री मोदी

1056
SHARE

‘’जोजिला टनेल सिर्फ इन्फ्रास्ट्रक्चर का एक प्रोजेक्ट नहीं, ये टेक्नोलॉजी का चमत्कार है।‘’ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने श्रीनगर को लेह-लद्दाख से जोड़ने वाली एशिया की सबसे लंबी सुरंग – जोजिला टनेल के शिलान्यास के मौके पर ये बात कही।   

जोजिला टनेल क्यों है ‘मिरैकल’

14.2 किलोमीटर लंबी यह दोतरफा सुरंग 3100 मीटर की ऊंचाई पर बनाई जा रही है। इसके निर्माण के साथ ही वे मुश्किलें खत्म हो जाएंगी जो साल में छह से सात महीने तक यहां लोग झेलते हैं। मई से नवंबर तक बर्फीली चट्टानें इस मार्ग पर रास्ता रोक देती हैं जिनसे जरूरी सेवाएं ठप्प हो जाती हैं। सुरंग के निर्माण के बाद ऐसा नहीं होगा। इस सुरंग के बनने से श्रीनगर, कारगिल और लेह-लद्दाख के बीच हर मौसम में संपर्क बना रहेगा और जोजिला से गुजरने में लगने वाले 3.5 घंटे का समय घटकर महज 15 मिनट का रह जाएगा।

कुतुब मीनार से भी सात गुना ऊंचा चैंबर

इस सुरंग से कार्बन डायऑक्साइड को निकालने के लिए और खुली हवा के अंदर आने के लिए जो चैंबर बनेगा उसकी ऊंचाई कुतुब मीनार से भी सात गुना अधिक होगी। जोजिला सुरंग के निर्माण के लिए सात वर्षों की समयसीमा रखी गई है लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि उनकी सरकार का पूरा प्रयास रहेगा कि इस अवधि को कम किया जा सके।

जोजिला सुरंग में भरे हैं रोजगार के अवसर

इस सुरंग के निर्माण पर 6,809 करोड़ रुपये की लागत आएगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि टनेल के निर्माण में मैटेरियल कंपोनेंट कम और मेहनत कंपोनेंट ज्यादा होता है इसलिए इस प्रोजेक्ट के साथ ही रोजगार बड़े मौके निकलने वाले हैं जिनसे इस क्षेत्र की इकोनॉमी को बल मिलेगा। जोजिला सुरंग व्यापार, पर्यटन, शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं की उपलब्धता में आने वाली दिक्कतों को दूर करेगी। यह देश की सुरक्षा को नया आयाम भी देगा। रणनीतिक रूप से यह सुरंग सेना के लिए भी महत्वपूर्ण मानी जा रही है। रसद और सैन्य सामग्रियों की सप्लाई में आसानी होगी।

कुशक बकुला भी करते थे देश को जोड़ने का काम

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यहां लद्दाख की प्रतिष्ठित शख्सियत और बौद्ध धर्म गुरु रहे कुशक बकोला रिनपोचे की जन्म शताब्दी समारोह के समापन के अवसर पर अपनी श्रद्धांजलि भी अर्पित की। प्रधानमंत्री ने कहा कि कुशक बकोला ने हमेशा देश को जोड़ने का काम किया। गौर करने वाली बात है कि जोजिला टनेल भी इस भूभाग को जोड़ने का काम करेगा।

लेह-लद्दाख में टूरिज्म को बढ़ावा देने के नए प्रयास

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोगों को विश्वास दिलाया कि उनकी पसंद के अनुरूप लेह-लद्दाख में स्टेट ऑफ द आर्ट कल्चरल सेंटर बनाया जाएगा। यह स्टेट ऑफ द आर्ट कल्चरल सेंटर टूरिज्म के लिए भी एक नजराना होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि इस क्षेत्र के इतिहास, सांस्कृतिक परंपराएं, वीर गाथाएं और खानपान जैसी चीजों को केंद्रित करते हुए एक वर्चुअल म्यूजियम भी बनाया जाएगा। प्रधानमंत्री ने यहां मेडिकल कॉलेज की मांग पर गंभीरता से विचार करने का भरोसा दिलाया।

जम्मू कश्मीर के विकास के लिए केंद्र प्रतिबद्ध

किशनगंगा और पकल डुल हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट सहित  एक ही दिन में राज्य के लिए करीब 25,000 करोड़ रुपये की कई परियोजनाओं के शिलान्यास या लोकार्पण के चलते जम्मू कश्मीर के लोगों के लिए 19 मई 2018 का यह दिन यादगार बन गया। प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार इस क्षेत्र के विकास के लिए कितना प्रतिबद्ध है यह इसका जीता जागता उदाहरण है।

Leave a Reply