Home नरेंद्र मोदी विशेष देश में मोदी लहर बरकरार, 85 प्रतिशत लोगों को मोदी सरकार पर...

देश में मोदी लहर बरकरार, 85 प्रतिशत लोगों को मोदी सरकार पर विश्वास

1610
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत को बुलंदियों पर ले जाने के लिए हर सम्भव कार्य कर रहे हैं। आर्थिक सुधार हो या सामाजिक सुधार, आंतरिक सुरक्षा हो या सीमा की रक्षा, शिक्षा हो या खेल… ऐसे सभी क्षेत्रों में संरचनात्मक बदलाव के साथ देश में सार्थक परिवर्तन कर रहे हैं। इसी का परिणाम है कि नोटबंदी और जीएसटी जैसे कड़े निर्णयों के बाद भी मोदी सरकार पर जनता का विश्वास बरकरार है। हाल में हुए एक सर्वे के अनुसार कई मौकों पर अपने ही नेताओं की नाराजगी झेल चुकी मोदी सरकार के प्रति भरोसा बढ़ा है। अमेरिका की एक एजेंसी के सर्वे के अनुसार देश की 85 प्रतिशत जनता केंद्र सरकार से खुश है।

मोदी लहर के लिए चित्र परिणाम

मोदी सरकार से प्रसन्न है 85 प्रतिशत जनता
देश के लोगों में वहां की सरकार के प्रति कितना भरोसा है इसपर एक सर्वे हुआ, इसके परिणाम के अनुसार 85 प्रतिशत लोग भारत की केंद्र सरकार के काम काज से संतुष्ट हैं। अमेरिकी थिंक टैंक प्यू रिसर्च सेंटर के इस सर्वे के अनुसार 85 प्रतिशत लोगों ने कहा कि उन्हें देश की मौजूदा सरकार पर भरोसा है। इसी सर्वे के अनुसार भारत में 65 प्रतिशत लोग एक्सपर्ट की सरकार चाहते हैं। 

भारत की आर्थिक प्रगति से खुश हैं आम लोग
पीयू रिसर्च सेंटर द्वारा करवाए गए इस सर्वे में 2012 से अर्थव्यवस्था का 6.9 प्रतिशत की औसत से बढ़ना एक सकारात्मक पहलू बताया गया है। वैश्विक स्तर पर 26 प्रतिशत लोगों ने यह माना है कि ऐसी व्यवस्था शासन के लिए अच्छी होगी जिसमें मजबूत नेता संसद या अदालतों के दखल के बिना फैसले कर सके। पीयू रिसर्च सेंटर अमेरिका की संस्था है, जो सामाजिक मुद्दों, जनमत संदेश और आबादी वाले जनसांख्यिकीय रुझान देता है।

प्यू रिसर्च सेंटर के लिए चित्र परिणाम

17 अगस्त को प्रकाशित एक सर्वे में भी यह बात सामने आई थी कि तमाम दुष्प्रचार के बावजूद देश में मोदी लहर कायम है। सर्वे जुलाई में करवाए गए थे जिसमें स्पष्ट था कि अगर जुलाई में चुनाव हो जाते तो भी भाजपा की अगुवाई वाली एनडीए फिर से अपना चुनावी इतिहास दोहराती। वहीं कांग्रेस की अगुवाई वाली यूपीए को फिर हार का सामना करना पड़ता। आइये देखते हैं इस सर्वे के परिणाम-

निजी समाचार चैनल आजतक, इंडिया टुडे और कार्वी इंसाइट लिमिटेड की ओर से किए गए सर्वे में यह बात सामने आई है। यह सर्वे देश के 19 राज्यों आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, झारखंड, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल में 12 जुलाई से 23 जुलाई के दौरान किया गया। सर्वे में 97 संसदीय और 194 विधानसभा क्षेत्रों के 12178 लोगों के मत को शामिल किया गया था।

सर्वे का समय 12 जुलाई – 23 जुलाई
सर्वे सैंपल 12178
राज्य 19
संसदीय क्षेत्र 97
विधानसभा क्षेत्र 194

सर्वे के अनुसार, यदि जुलाई में चुनाव हुए होते तो एनडीए को 349, यूपीए को 75 और अन्य को 119 सीटें मिलने का अनुमान हैं। सर्वे में यह तथ्य भी सामने आया है कि एनडीए को कुल मत का 42 प्रतिशत, यूपीए को 28 और अन्य को 30 प्रतिशत मत मिलते। साफ है कि मोदी सरकार अपने तीसरे साल में भी अगर 300 से ज्यादा सीटों पर अपनी जीत बनाए रखती है तो इसे एक जबर्दस्त उपलब्ध‍ि ही कहा जाएगा।

देश का मिजाज  
एनडीए 394
यूपीए 75
अन्य 119

इस सर्वे में यह भी सामने आया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता निरंतर बढ़ी। इसमें प्रधानमंत्री मोदी के कामकाज को 63 फीसदी लोगों ने शानदार माना, जबकि 23 फीसदी लोगों ने ही पीएम मोदी के काम को औसत बताया था।

पीएम मोदी का कामकाज  
शानदार 63 %
औसत 23 %
खराब 12 %

सर्वे में लोगों ने मोदी सरकार की सबसे बड़ी कामयाबी कालेधन के खिलाफ अभियान को माना। इसके अनुसार 23 प्रतिशत लोगों ने इसे सबसे बड़ी सफलता माना, जबकि ईमानदारी के मामले में सरकार को 14 प्रतिशत, नोटबंदी को लेकर 14 प्रतिशत, स्वच्छ भारत अभियान को गति देने में 11 प्रतिशत और सर्जिकल स्ट्राइक को 9 प्रतिशत लोगों ने बड़ी उपलब्धि माना है।

इस सर्वे में आगे कहा गया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इंदिरा गांधी से दोगुने और जवाहर लाल नेहरू से चार गुना बेहतर प्रधानमंत्री सिद्ध हुए हैं।

प्रधानमंत्री की लोकप्रियता  
नरेंद्र मोदी 33 %
इंदिरा गांधी 17 %
अटल बिहारी वाजपेयी 9 %
जवाहरलाल नेहरू 8 %
राजीव गांधी 8 %
लालबहादुर शास्त्री 5 %
मोरारजी देसाई 4 %
मनमोहन सिंह 4 %

आजतक के इस सर्वे से यह भी पता चला कि पिछले तीन साल के दौरान देश में अल्पसंख्यकों की स्थिति में सुधार हुआ है। 49 प्रतिशत लोगों ने माना था कि बड़े पैमाने पर स्थिति सुधरी है

मोदी लहर के लिए चित्र परिणाम

पीएम मोदी जितना महत्वपूर्ण कोई नहीं
देश की स्वतंत्रता की 70वीं वर्षगांठ पर न्यूज मैगजीन बिजनेस वर्ल्ड के लिये कराये गये सर्वे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अहमियत अद्वितीय बताई गई। BW के लिये Traverse Strategy Consultants की ओर से कराये गये इस सर्वे में देशभर के 440 सीईओ और कंपनियों के डायरेक्टर की राय ली गई। इस सर्वे में देशभर के 12 शहरों में मौजूद विभिन्न क्षेत्रों में काम कर रही कंपनियों को शामिल किया गया। इस सर्वे के मुताबिक देश की आजादी के 70 साल के इतिहास में नरेंद्र मोदी से महत्वपूर्ण कोई प्रधानमंत्री नहीं हुआ। सर्वे में पीएम मोदी के बाद पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी को दूसरा और राजीव गांधी को तीसरा सबसे महत्वपूर्ण प्रधानमंत्री बताया गया।

मोदी लहर के लिए चित्र परिणाम

70 साल में सबसे महत्वपूर्ण प्रधानमंत्री:

स्थान नाम
पहला नरेंद्र मोदी
दूसरा अटल बिहारी वाजपेयी
तीसरा राजीव गांधी

(BW Corporate India Survey)

वर्तमान में सबसे अहम राजनीतिक व्यक्तित्व
इस सर्वे के मुताबिक भारत की वर्तमान स्थितियों में प्रधानमंत्री मोदी सबसे महत्वपूर्ण राजनीतिक व्यक्ति हैं। इस सर्वे का आधार सरकारी की नीतियां और रणनीतियां हैं जिससे उद्योगों के कारोबार और वाणिज्य पर असर पड़ता है। इसके मुताबिक वर्तमान माहौल में देश को जो आशावादी और स्पष्ट विजन का वातावरण उपलब्ध कराया गया है उससे कॉर्पोरेट जगत के लिये आने वाले 30 साल की बुनियाद मजबूत हो चुकी है।

मोदी लहर के लिए चित्र परिणाम

देश के सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री हैं मोदी
मई में प्रकाशित टाइम्स नाउ-वोटर्समूड रिसर्च (वीएमआर) के सर्वे में लोकप्रियता के मामले में 60 प्रतिशत वोट पीएम मोदी को मिले हैं। यानी लोकप्रियता के मसले पर वो टॉप पर हैं और कोई दूसरा राजनेता उनके आस-पास भी फटकने की स्थिति में नहीं है। सर्वे की सबसे बड़ी बात यही है कि इसमें लोगों ने प्रधानमंत्री मोदी को देश में अबतक का सबसे अच्छा पीएम चुना है।

एनडीए की सीटों में होगी भारी बढ़ोत्तरी
पीएम मोदी की लोकप्रियता के अलावा इस सर्वे में ये भी बताया गया है कि, अगर उस वक्त लोकसभा का चुनाव होता तो पीएम मोदी की अगुवाई वाले एनडीए को 342 सीटें मिलती। सर्वे के अनुसार अभी चुनाव होने पर एनडीए का वोट शेयर 11 प्रतिशत बढ़ने का अनुमान व्यक्त किया गया। यही नहीं अकेले बीजेपी की सीटें भी बढ़कर 284 तक पहुंने की बात कही गई।

मोदी लहर के लिए चित्र परिणाम

इससे अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं कि देश की जनता तीन साल में मोदी सरकार के कामकाज से कितनी खुश है। क्योंकि तीन साल बाद पीएम और सरकार की लोकप्रियता में और बार बढ़ोत्तरी हो गई है। यानी 2014 के आम चुनाव के समय जो देश में मोदी लहर था, उसमें तीन साल बाद भारी बढ़ोत्तरी ही हुई है।

Leave a Reply