Home तीन साल बेमिसाल जन-भागीदारी लोकतंत्र की सबसे बड़ी ताकत है- पीएम मोदी

जन-भागीदारी लोकतंत्र की सबसे बड़ी ताकत है- पीएम मोदी

1494
SHARE

करीब डेढ़ सौ दिनों तक चले ‘नर्मदा सेवा यात्रा’ का औपचारिक समापन हो गया। इस अवसर नर्मदा के उद्गम स्थल अमरकंटक में एक विशेष समारोह आयोजित किया गया, जिसमें प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने ‘नर्मदा कार्य योजना’ नाम की एक बुकलेट का विमोचन किया। इस अवसर पर उन्होंने नदियों और पर्यावरण के संरक्षण के साथ-साथ स्वच्छता अभियान पर जोर डाला और इस दिशा में मध्यप्रदेश के योगदान की जमकर सराहना की। प्रधानमंत्री ने कहा कि लोकतंत्र की सबसे बड़ी ताकत जन-भागीदारी है, जिसे मध्यप्रदेश ने करके दिखाया है। 

नर्मदा सेवा यात्रा की सराहना

प्रधानमंत्री ने नर्मदा और पर्यावरण के संरक्षण के लिए करीब 25 लाख लोगों के सक्रीय योगदान से तकरीबन 150 दिनों तक चली नर्मदा सेवा यात्रा की जमकर प्रशंसा की है। पीएम ने कहा कि शास्त्रों के अनुसार अगर पवित्र यात्रा में शामिल न हो पाएं, तो यात्री को ही प्रणाम कर लिया जाय तो यात्रा का पुण्य प्राप्त होता है। पीएम के अनुसार, जिस मां नर्मदा ने हजारों साल हमें बचाया है, हमारे पूर्वजों को जीवन दिया, उनकी रक्षा की, इंसान अपने स्वार्थ के लिए उन्हें ही खत्म करते रहे। उन्होंने कहा कि अगर मानव अपने कर्तव्यों से मुंह नहीं चुराता तो आज नदियां विलुप्त नहीं होतीं। 

नदी और पर्यावरण संरक्षण पर जोर

पीएम मोदी ने कहा कि देश में आज कई ऐसी नदिया हैं, जिनका नक्शे पर तो निशान है, लेकिन उनमें पानी नाम मात्र भी नहीं बचा है। कई तो इतिहास की बात बन चुकी हैं। उन्होंने कहा कि केरल में भी एक नदी है जो बचेगी की नहीं, ये चिंता का विषय है। उन्होंने नदियों और पर्यावरण के संरक्षण पर बहुत जोर दिया और हर देशवासी को इसमें सक्रिय रूप से जुड़ जाने का आह्वान किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि नर्मदा नदी बर्फ से नहीं निकलती है, वो एक-एक पौधौं से निकलती है। इसीलिए मध्यप्रदेश सरकार ने उसके संरक्षण के लिए वृक्षारोपण के एक बहुत बड़े अभियान की पहल की है, जिसमें नर्मदा के दोनों तटों पर करीब 6 करोड़ पेड़ लगाए जाने हैं। पीएम ने कहा कि हमारे पूर्वजों ने प्रकृति की जो सेवा की उसका लाभ हमें मिला और आज अगर हम इसकी सेवा करेंगे तो हमारी आने वाली पीढ़ियां लाभांवित होंगी। पीएम मोदी ने कहा कि अगर नर्मदा सेवा यात्रा को जनता-जनार्दन का साथ नहीं मिला होता तो ये इतना सफल नहीं हो पाता। उन्होंने कहा कि नर्मदा के जल के एक-एक बूंद का मोल क्या है, वो गुजरात के लोग जानते हैं। उन्होंने इसके लिए गुजरात, राजस्थान और महाराष्ट्र के लोगों की ओर से मध्यप्रदेश की जनता, सरकार और मुख्यमंत्री का अभिनंदन किया।

स्वच्छ सर्वे में मध्यप्रदेश के प्रदर्शन की तारीफ

इस मौके पर श्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छ भारत मिशन को मध्यप्रदेश में मिली बेहतरीन कामयाबी का भी जिक्र किया और इसके लिए राज्य की जनता की खूब सराहना की। पीएम ने कहा कि जनता के सहयोग के बिना देश के 100 स्वच्छ शहरों में मध्यप्रदेश के 22 शहरों का शामिल होना संभव नहीं था। बड़ी बात तो ये है कि पहले दो नंबर पर भी इंदौर और भोपाल को ही जगह मिली है। पीएम ने कहा कि जन-भागीदारी लोकतंत्र की सबसे बड़ी ताकत है। जन सामर्थ्य, जन-समर्थन की उपेक्षा करेंगे तो सरकार कुछ करने में समर्थ नहीं होगी। इस अवसर पर उन्होंने नर्मदा कार्य योजना को ‘फ्यूचर विजन का परफेक्ट डॉक्यूमेंट’ बताया, जो दूसरे राज्यों के लिए भी उदाहरण है।

नए भारत का सपना,किसानों की आय हो दोगुना

प्रधानमंत्री ने कहा कि माता नर्मदा का कृषि विकास में सबसे बड़ा योगदान है। उनकी सरकार 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने पर काम कर रही है और एमपी ने इसकी पूरी योजना भी तय कर ली है। उन्होंने कहा कि, क्या सवा सौ करोड़ देशवासी हर पल 2022 का सम्मरण नहीं कर सकते। आजादी के 75 साल पूरे होने पर उन महापुरुषों को याद नहीं कर सकते ? उन्होंने आह्वान किया कि 2022 के लिए नया भारत का सपना बना कर चलें, इसमें हर देशवासियों को जोड़ते चलें जैसे आजादी के समय हुआ। अगर एक बार माहौल बने तो 5 साल में देश को कहां से कहां पहुंचा सकते हैं।

विकास का अवतार हैं मोदी- स्वामी अवधेशानंद

इस कार्यक्रम में आचार्य महासभा के अध्यक्ष और आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद जी महाराज ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा देशहित में उठाए गये कदमों की जमकर सराहना की। उन्होंने कहा कि, “राष्ट्रऋषि, जिनके पास सभ्यता, संस्कृति संस्कार और संवेदनाएं हैं, जो निरंतर मानवीय सभ्यता के उत्कर्ष के लिए हैं।  स्वामी जी ने भारत के गौरवपूर्ण इतिहास का वर्णन कर कहा कि, “ जब-जब कोई गतिरोध आता है, जब धर्म, संस्कारों में शैथिल्य आता है, तब-तब कोई सत्ता फिर से आती है। अवतार भी अनेक प्रकार से होते हैं। आवेश अवतार, कोई आवेग अवतार, रूपकला अवतार, गुणावतार। मुझे ऐसा लगता है कि भारत की धरती पर इस समय विकास का अवतार हुआ है।”

भगवान का वरदान हैं मोदी- शिवराज सिंह चौहान

इस अवसर पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी मोदी जी को भारत के लिए भगवान का वरदान बताया। उनके शब्दों में, “ राष्ट्रऋषि, युगपुरुष, भारत के लिए भगवान का वरदान हैं, जो जब बोलते हैं तो केवल हिंदुस्तान नहीं, पूरी दुनिया सुनती है और जब करते हैं तो पूरी दुनिया देखती है।” उनके अनुसार, “प्रधानमंत्री हमारे ‘प्रेरणा के पुंज’ हैं। वो ‘मैन ऑफ आइडियाज’ हैं। आइडिया का भंडार हैं। ”शिवराज ने कहा, ”तीन साल का सफर भारत की उपलब्धियों का सफर है…कभी भारत को विश्वगुरु बनाने का सपना देखते थे। वो सपना अब साकार होगा नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में।”

Leave a Reply