Home नरेंद्र मोदी विशेष मॉब लिंचिंग से लेकर NRC तक प्रधानमंत्री मोदी का विपक्ष पर करार...

मॉब लिंचिंग से लेकर NRC तक प्रधानमंत्री मोदी का विपक्ष पर करार प्रहार, कहा वंशवाद को बढ़ाने के लिए है महागठबंधन

433
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने न्यूज एजेंसी एएनआई को दिए इंटरव्यू में देश के कई मुद्दों पर अपनी बेबाक राय जाहिर की है। श्री मोदी ने असम के एनआरसी से लेकर जीएसटी और मॉब लिंचिंग से लेकर रोजगार नहीं होने के विपक्ष के आरोपों का भी जवाब दिया। प्रधानमंत्री मोदी ने विपक्ष के महागठबंधन पर भी प्रहार किया और कहा कि ये गठबंधन टूटना तय है, अब देखना ये है कि ये चुनाव के बाद टूटता है या फिर पहले।

किसी भारतीय नागरिक को नहीं छोड़ना पड़ेगा देश
प्रधानमंत्री मोदी ने असम में एनआरसी के मुद्दे पर कहा, ‘मैं लोगों को विश्‍वास दिलाना चाहता हूं कि भारत के किसी भी नागरिक को देश नहीं छोड़ना पड़ेगा। उचित प्रक्रिया के तहत, लोगों की चिंताओं को दूर करने के लिए सभी संभावित अवसर दिए जाएंगे।” पीएम मोदी ने इस दौरान पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी के ‘गृह युद्ध जैसे हालात’ वाले बयान पर कहा- ”जो लोग खुद में विश्‍वास खो चुके हैं, लोगों का समर्थन खोने का डर है और जिन्हें हमारे संस्‍थानों में विश्‍वास नहीं है, वही लोग गृह युद्ध, रक्‍तपात जैसे शब्‍दों का प्रयोग करते हैं। निसंदेह, वे लोग देश की नब्‍ज को पकड़ने में असफल हो चुके हैं।”

समाज में शांति और एकता सुनिश्चित करना जरूरी
प्रधानमंत्री मोदी ने महिलाओं के साथ हो रहे अत्याचार और मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर कहा, “हमारी पार्टी और मैंने, इन मुद्दों पर कई मौकों पर बोला है कि हम ऐसी मानसिकता और कार्यों के खिलाफ हैं। ऐसी एक भी घटना बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। समाज में शांति और एकता सुनिश्चित करने के लिए हर किसी को राजनीति से ऊपर उठना चाहिए।” श्री मोदी ने कहा कि सरकार कानून का राज्य स्थापित करने के लिए प्रतिबद्ध है। देश के हर नागरिक की जिंदगी और स्वतंत्रता की रक्षा का हमारा इरादा पक्का है। उन्होंने कहा, ‘मैं स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि मॉब लिंचिंग अपराध है, उसका मकसद चाहे जो भी हो। कोई भी व्यक्ति कानून को अपने हाथ में नहीं ले सकता।’  सोशल मीडिया पर बढ़ती फेक न्यूज़ और अफवाहों पर लगाम के लिए पीएम मोदी ने कहा कि समाज के साथ संवाद के नियम सभी को जानना जरूरी है। हमें पता होना चाहिए कि ‘क्या करें-क्या न करें’। 

वंशवाद को बढ़ाने के लिए है महागठबंधन
पीएम मोदी ने महागठबंधन के सवाल पर कहा कि महागठबंधन, वंशवाद को आगे बढ़ाने के लिए, न कि विकास के बारे में। उन्होंने कहा कि यह गठबंधन टूटा तय है और अब सवाल यह है कि ये चुनाव के पहले टूटता है या फिर बाद में। प्रधानमंत्री ने कहा, जनता ने भाजपा को चुनाव दर चुनाव और राज्य दर राज्य में अपनी आकांक्षाएं पूरी करने के लिए चुना है। जनता साफतौर पर इन दलों और भाजपा के बीच का अंतर पहचानती है। आज आपातकाल का विरोध करने वाले उनके साथ खड़े हैं, जिन्होंने इसे लागू किया था। जो भ्रष्टाचार से लड़ने जा रहे थे, वे उस दल के साथ खड़े हैं, जिसने हर स्तर पर संस्थागत भ्रष्टाचार को बढ़ावा दिया। जिन दलों का अस्तित्व ही एक-दूसरे से लड़ाई पर टिका था, वे अब दोस्त बन रहे हैं। उन्होंने आगे कहा, महागठबंधन सैद्धांतिक समर्थन के लिए नहीं बल्कि निजी बचाव के लिए हो रहा है। महागठबंधन जनता की आकांक्षाओं के लिए नहीं बल्कि निजी महत्वाकांक्षाओं के लिए हो रहा है। महागठबंधन शुद्ध पावर पॉलीटिक्स पाने के लिए है, जनादेश के लिए नहीं। 

जीएसटी पर जनता के दिया जवाब
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा जीएसटी को गब्बर सिंह टैक्स कहे जाने पर पीएम मोदी ने कहा कि गुजरात चुनाव के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष ने लोगों को जीएसटी के खिलाफ भड़काने की पूरी कोशिश की, लेकिन लोगों ने उन्हें स्वीकार नहीं किया। वहीं, राहुल गांधी द्वारा ससंद में गले लगने पर श्री मोदी ने कहा कि यह आपके ऊपर है कि आप इसे बचकानी हरकत मानते हैं या नहीं। अगर आप फैसला नहीं कर पा रहें हैं तो राहुल गांधी का वह आंख मारना देखिए आपको जवाब मिल जाएगा। उन्होंने कहा, मैं एक विनम्र ‘कामदार’ हूं। मैं इस देश के ‘नामदारों’ की तुलना में कुछ भी नहीं हूं। वे तय करते हैं किससे नफरत करनी है, कब नफरत करनी है और किसे ‘प्यार’ करना है और कैसे इसे दिखाना है। इस सबमें मेरे जैसे कामदार क्या कह सकते हैं। 

राफेल पर झूठ बोलती है कांग्रेस
राफेल डील पर चल रहे विवाद पर प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस को घेरा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस बोफोर्स के भूत से अपना पीछा छुड़ाने के लिए हमेशा से झूठ का सहारा लेती रही है। राफेल डील पर विवाद भी इसी प्रोपेगंडा का हिस्सा है। उन्होंने कहा, ‘यह एक पारदर्शी और ईमानदारी का सौदा है जो सरकार और सरकार के बीच हुआ है। बाकी सब झूठा प्रचार है जो देश हित को नुकसान पहुंचाता है।’ 

आरक्षण खत्म करने का सवाल ही नहीं
आरक्षण पर लोगों की शंकाओं को स्‍पष्‍ट करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कि आरक्षण बना रहेगा, इसमें किसी को शक नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा, हमारे संविधान का उद्देश्य और बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर का सपना अभी तक पूरा नहीं हुआ है और इसे पूरा करना हम सभी की जिम्मेदारी है। आरक्षण की इसमें अहम भूमिका है और ये कभी खत्म नहीं होने जा रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, हर बार चुनावों से पहले कुछ समूह अपना हित साधने के लिए भाजपा पर आरक्षण खत्म करने का मौका तलाशने का आरोप लगाते हैं और मीडिया का भी एक खास तबका उनकी बात को बढ़ावा देता है। ये वहीं लोग हैं, जो बाबासाहेब के सपनों को सूली पर चढ़ाते रहे हैं।

एक करोड़ लोगों को मिली नौकरियां
पीएम मोदी कहा कि पिछले साल एक करोड़ से ज्‍यादा लोगों को नौकरियां मिली हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे में ये अभियान बंद हो जाना चाहिए कि देश के लोगों को नौकरियां नहीं मिल रही हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सितंबर 2017 से अप्रैल 2018 के बीच 45 लाख औपचारिक रोजगार पैदा हुए। ईपीएफओ के आंकड़े बताते हैं कि पिछले साल 70 लाख नए रोजगार पैदा हुए। उन्होंने कहा कि पर्यटन में विकास, मुद्रा योजना के तहत लोन, स्टार्टअप और कंस्ट्रक्शन के क्षेत्र में रोजगार के नए अवसर आए हैं। 

नहीं बख्शे जाएंगे भगोड़े आर्थिक अपराधी
पीएम मोदी ने कहा कि वित्तीय स्तर पर धोखाधड़ी करने वालों के खिलाफ सरकार सक्रिय है और हाल ही में लागू हुए कानून के परिणाम जल्द सामने आएंगे, जिसके तहत अपराधियों की संपत्ति जब्त की जा सकती है। कोई भी व्यक्ति जो जनता का पैसा लेकर भागेगा, उसे बख्शा नहीं जाएगा। 

भारत पड़ोसी देशों से अच्छे संबंधों का पक्षधर
इमरान खान के सत्‍ता संभालने के बाद पाकिस्‍तान से संबंधों और सार्क में भारत के भाग लेने के सवाल पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “मैंने हमेशा कहा है कि हम पड़ोसी देशों से अच्‍छे संबंधों के पक्षधर रहे हैं। मैंने चुनाव में इमरान खान की जीत के बाद उन्‍हें बधार्इ् दी थी। हम आशा करते हैं कि पाकिस्‍तान आतंक और हिंसा से मुक्त, सुरक्षित, स्थिर और समृद्ध क्षेत्र के लिए काम करेगा।”

LEAVE A REPLY