Home समाचार देश की अर्थव्यवस्था 10 ट्रिलियन डॉलर करने की ओर अग्रसर- प्रधानमंत्री मोदी

देश की अर्थव्यवस्था 10 ट्रिलियन डॉलर करने की ओर अग्रसर- प्रधानमंत्री मोदी

393
SHARE

भले ही दुनिया में हुए तीन औद्योगिक क्रांति के दौरान हमारी बस छूट गई हो लेकिन इस समय चल रही चौंथी औद्योगिक क्रांति की बस में भारत न केवल सवार हो चुका है बल्कि उसे आगे चलाएगा भी। यह बात कोई और नहीं बल्कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कही है। शनिवार यानि 23 फरवरी को आयोजित ईटी ग्लोबल बिजनेस समिट 2019 को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि वह चाहते हैं कि हमारे देश की अर्थव्यवस्था 10 ट्रिलियन डॉलर का हो। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हमारी सरकार में कोई काम नामुमकिन नहीं है इसलिए इस लक्ष्य को प्राप्त करना नामुमकिन नहीं है। पिछली सरकार के दौरान नामुमकिन लगने वाली अधिकांश चीजों को हमारी सरकार ने देशवासियों के सहयोग से नामुमकिन कर दिखाया है।

नामुमकिन को मुमकिन कर दिखााया 

अपने संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि जरा 2014 से लेकर उसके पहले वाले दौर को देखिए। उस सरकार के दौरान अपने देश के हर व्यक्ति को बिजली नहीं मिल पाती थी। लेकिन आज देश बिजली निर्यात करने की स्थिति में पहुंच चुका है। निर्यात की स्थित में तब आया है जब देश के हजारों घरों में रोशनी पहुंचाने को सुनिश्चित किया जा चुका है। हम नया भारत में आज केवल कोई चीज बना ही नहीं रहे हैं नई चीज भी बना रहे हैं। कहने का तात्पर्य कि हम भारत में नई चीज खोज भी रहे हैं।

भूत तो हमारे हाथ में नहीं लेकिन भविष्य हमारे हाथ में है: पीएम 

इस मौके पर देश की विगत स्थिति की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि विगत में जो कुछ हुआ वह तो हमारे हाथ में नहीं था लेकिन भविष्य में क्या होगा वह तो पूरी तरह हमारे हाथ में है। और हम देश के सुखद भविष्य बनाने में कोई कोताही नहीं करेंगे। पहले देश में सुधार की कोई बात हो तो सरकार की तरफ से नकारात्मक सोच और बयान ही दिखते थे। वह यह कि ऐसा करना तो मुमकिन नहीं है। लेकिन देशवासियों के सहयोग से हमारी सरकार ने नामुमकिन की जगह मुमकिन शब्द को ला दिया है। हमारी सरकार के समय देशवासियों ने आर्थिक सुधार को संभव कर दिखाया। यह इसलिए संभव हुआ है क्योंकि सरकार सुधार के साथ ही अपने देशवासियों के साथ खड़ी थी।

देश में सबसे तेजी से घटी है गरीबी 

पीए मोदी ने कहा कि दुनिया मानती है कि इस समय भारत विश्व में सबसे तेज गति से विकास करने वाला देश है। लेकिन मैं कहता हूं कि यह तो सत्य है ही लेकिन इसके साथ एक और सच है। वह सच यह है कि भारत सबसे तेज गति से गरीबी घटाने वाला भी देश है। मोदी ने कहा कि हमारी सरकार के समय देश में सबसे तेज गति से गरीबी भी घटी है। उन्होंने कहा कि अगर हमारी सरकार मंगल ग्रह पर मानव भेजने की तैयारी में है तो साथ ही यह भी सुनिश्चित कर रही है कि देश में कोई भी व्यक्ति बगैर छत का न हो। मोदी ने इस मौके पर पिछली सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि हमारी सरकार ए बी सी से काफी आगे निकल चुकी है। एबीसी के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि ए का मतलब एव्यॉडिंग यानि उपेक्षित रखो, दूसरा बी का मतलब बरिइंग यानि दफना दो तथा सी का मतलब कनफ्यूजिंग यानि खुद भी संशय में रहो और दूसरों को भी संशय में रखो।

देश में हुआ है चहुंमुखी और समावेशी विकास

अपने संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमारी सरकार में किसी की उपेक्षा कर किसी का विकास नहीं किया गया है। हम दो समानांतर ट्रैक पर देश का विकास किया है। अगर एक तरफ देश में आईआईटी और एम्स बनाए गए हैं तो दूसरी तरफ देश के हर स्कूल में शौचालय बनाया गया है। अगर एक तरफ आज देश में ट्रेनों की गति तेज हुई है तो दूसरी तरफ देश में सारे मानवरहित क्रॉसिंग खत्म कर दिए गए हैं। हमारी सरकार का ध्येय ही समता आधारित विकास करना है। इसलिए अगर हमें देश में सौ स्मार्ट सिटी बनाया है तो साथ ही हमने देश के सौ जिलों में विकास करना सुनिश्चित किया है।

हमारी सरकार में आपसी स्वस्थ प्रतिस्पर्धा रही है 

इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि यह तभी संभव होता है जब स्वस्थ प्रतियोगिता की भावना होती है। हमारी सरकार में मंत्रालयों से लेकर प्रदेश और जिलों में विकास करने और एक दूसरे से बेहतर और पहले लक्ष्य हासिल करने की प्रतियोगिता होती है। जिसका परिणाम सुखद और अच्छा होता है। जबकि पहले की यूपीए सरकार के दौरान भ्रष्टाचार करने में प्रतियोगिता होती थी। वे लोग इस बात को लेकर ज्यादा प्रतिस्पर्धा करते थे कि कोल खदान को लुटाने से ज्यादा पैसा आएगा या फिर 2जी घोटाले से। भ्रष्टाचार के नए तरीके इजाद किए जाते थे। नए तरीके का इस्तेमाल रक्षा सौदा में किया जाए या फिर हेलिकॉप्टर सौदा में। इसलिए उस समय सिर्फ भ्रष्टाचार फला फुला। लेकिन हमारी सरकार में पारदर्शी तरीके से कार्य होता है इसलिए हर तरफ विकास और काम दिखता है।

हम अपने देश के लोगों को ऊर्जा की सुरक्षा देना चाहता हूँ। पीएम मोदी ने कहा कि हम अपने देशवासियों को किसी भी चीज के लिए दूसरे देश पर डिपेंडेंट नहीं इंडिपेंडेंट देखना चाहते हैं। इसलिए इनर्जी के क्षेत्र में हम देश के लोगों को आत्मरिर्भर बनते देखना चाहते हैं। अब हम अपने देश को बिजली संचालित वाहनों तथा ऊर्जा संचित डिवाइस के क्षेत्र में वर्ल्ड लीडर बनाना चाहता हूं। अपने दिमाग में इस लक्ष्य को निर्धारित कर हम अपने सपने के नए भारत का निर्माण करेंगे।

Leave a Reply