Home चटपटी अपनी नादानी और बेवकूफी से राहुल ने खुद और पार्टी की कराई...

अपनी नादानी और बेवकूफी से राहुल ने खुद और पार्टी की कराई किरकिरी

158
SHARE

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी नादानियों और बेवकूफियों की वजह से वक्त-वक्त पर कांग्रेस की किरकिरी कराते रहते हैं। इस बार उन्होंने एक ट्वीट कर कांग्रेस की फजीहत करा दी। मिजोरम के एक सैनिक स्कूल की तस्वीर के साथ राहुल गांधी ने अपने ऑफिशियल ट्वीटर पर एक आर्टिकल शेयर किया और कमेंट में मिजोरम की जगह मणिपुर लिख दिया। दरअसल जिस स्कूल की तस्वीर राहुल ने ट्वीट की वो एक सैनिक स्कूल की है। स्कूल की स्थापना के करीब 50 साल बाद उसमें लड़कियों को एंट्री मिली है। लिहाजा राहुल ने ट्वीट किया कि “अगर अवसर दिया जाए तो ऐसा कुछ भी नहीं है जिसे लड़कियां नहीं कर सकतीं। मणिपुर के सैनिक स्कूल की लड़कियां इस बात का सुबूत पेश कर रही हैं। इन बहादुर और प्रेरणामयी बच्चियों को मेरी शुभकामनाएं हैं। आप भारत की भविष्य हो, आप हमें गौरव से भर देते हो।

क्या इतना भी नहीं जानते राहुल गांधी?

इसमें कोई संदेह नहीं कि हिन्दुस्तान के बारे में राहुल गांधी की जानकारी थोड़ी कम है। नॉर्थ ईस्ट के बारे में तो उनका ज्ञान और कम है। ऐसे में राहुल गांधी की ओर से मिजोरम को मणिपुर लिख दिया जाना कोई हैरानी की बात नहीं है। लेकिन राहुल गांधी को ये तो पता होना ही चाहिए कि नॉर्थ ईस्ट में मौजूदा वक्त में एक ही राज्य है जहां कांग्रेस की सरकार है और वो है मिजोरम। मणिपुर में तो बीजेपी की सरकार है। उससे भी बड़ी बात ये है कि अपने बूते सत्ता में कांग्रेस मिजोरम और पंजाब के अलावा पूरे देश में कहीं नहीं है। ऐसे में राहुल की ये भूल छोटी न होकर बड़ी मानी गई और जब राहुल को इसका एहसास हुआ तो उन्होंने फौरन से पेश्तर उस ट्वीट को हटा लिया। उसकी जगह एक दूसरा ट्वीट मणिपुर की जगह मिजोरम लिख कर किया। लेकिन जबतक राहुल अपना ट्वीट हटाते वो लाखों लोगों की आंखों से गुजर चुका था। बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने कहा कि “नॉर्थ ईस्ट को लेकर राहुल की बेपरवाही समस्या पैदा करने वाली है।”

बहरहाल राहुल गांधी ऐसी नादानी और बेवकूफी के लिए जाने जाते हैं। उनके लिए ये कोई नई बात नहीं है। राफेल की कीमतों को लेकर ही अलग-अलग भाषणों में उन्होंने जो अलग-अलग बयान दिए उससे कांग्रेस की झूठ फैलाने की मुहिम अपने आप ही धराशाई हो गई। उनकी इस नादानी का खामियाजा कोई और नहीं बल्कि उनकी पार्टी कांग्रेस के नेता भुगतते हैं। यही वजह है कि कई बार कांग्रेस के नेता ही उन्हें पप्पू कहने लगते हैं।

    राहुल को कांग्रेसी नेताओं ने ही पप्पू कहा

  • राजस्थान में यूथ कांग्रेस के महासचिव रहे ब्रह्म प्रकाश विश्नोई ने राहुल गांधी को अपने व्हाट्स ग्रुप में पप्पू लिख दिया। केशव चंद्र यादव को राजस्थान यूथ कांग्रेस का अध्यक्ष बनाए जाने से नाराज विश्नोई ने लिखा आज पता चला लोग राहुल गांधी को पप्पू क्यों कहते हैं? बाद में पार्टी ने कार्रवाई करते हुए विश्नोई को सस्पेंड कर दिया।
  • मेरठ में कांग्रेस पार्टी के जिला अध्यक्ष विनय प्रधान ने कांग्रेस के व्हाट्स ऐप ग्रुप में राहुल गांधी को पप्पू कहकर संबोधित कर दिया। पोस्ट को लेकर कांग्रेसियों में हड़कंप मच गया। विनय प्रधान को जिला अध्यक्ष समेत सभी पदों से हटा दिया गया। इस कार्रवाई के बाद प्रधान ने कहा, “मेरे खिलाफ कार्रवाई कर राहुल गांधी ने साबित कर दिया है कि वह निश्चित तौर पर पप्पू हैं क्योंकि वह उन शब्दों को नहीं समझ पाये जो उनकी सराहना में कहे गये थे।”
  • सतना के नागौद से कांग्रेस विधायक यादवेंद्र सिंह ने एक पत्रकारवार्ता में राहुल गांधी को ‘पप्पू” कह दिया। यादवेन्द्र सिंह ने कहा कि राहुल गांधी पहले पप्पू थे, लेकिन अब लगता है कि पप्पू पास हो गया है। जैसे ही यह शब्द उनके मुंह से निकले आसपास बैठे सभी कांग्रेस नेता दंग रह गए।
  • कांग्रेस के पूर्व सांसद गुफरान आजम(अब मरहूम) ने तो सोनिया गांधी को एक नहीं दो-दो बार चिट्ठी लिखकर राहुल गांधी की तीखी आलोचना की थी। चिट्ठी में उन्होंने लिखा था कि पिछले दस सालों से राजनीति में सक्रिय राहुल गांधी अब तक भाषण देना भी नहीं सीख पाए हैं। मध्य प्रदेश के बैतूल से सांसद रहे गुफरान आजम का तो कहना था कि उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर मांग की है कि उन्हें अपने बेटे का मोह छोड़ देना चाहिए जो लंबे समय से राजनीति में रहने के बावजूद भाषण देना तक नहीं सीख सका है।

LEAVE A REPLY