Home नरेंद्र मोदी विशेष प्रधानमंत्री के बचपन के संघर्षों की कहानी अब सिल्वर स्क्रीन पर

प्रधानमंत्री के बचपन के संघर्षों की कहानी अब सिल्वर स्क्रीन पर

1685
SHARE

कोई व्यक्ति किशोरावस्था में क्या-क्या सोच सकता है? अच्छी पढ़ाई, अच्छी नौकरी और अच्छा जीवन… आम लोगों का सपना इतनी ही बातों के इर्द-गिर्द घूमता है, लेकिन 17 वर्ष की आयु में नरेंद्र दामोदर दास मोदी ने घर छोड़ने का निर्णय लिया और देश को जानने राष्ट्र भ्रमण पर निकल पड़े। उनके समर्पण, त्याग और मेहनत का ही परिणाम है कि वो आज भारतीय राजनीति के धूमकेतु बनकर चमक रहे हैं।

गुजरात के एक छोटे शहर के साधारण परिवार में जन्मे नरेंद्र मोदी के लिए यह सब इतना आसान नहीं था लेकिन उन्होंने कर दिखाया। उनके बचपन के संघर्ष और शून्य से शिखर तक पहुंचने की ये कहानी अब जल्दी ही सिल्वर स्क्रीन पर होगी।

‘हूं नरेन्द्र मोदी बनवा मांग छूं’

राजनीति की दुनिया में सबसे अहम नाम बन चुके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन को करीब से बड़े पर्दे पर जानने के लिए तैयार हो जाइये। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जीवन संघर्ष पर गुजराती भाषा में फिल्म ‘हूं नरेन्द्र मोदी बनवा मांग छूं’ बन रही है। पीएम मोदी के बचपन के संघर्ष पर आधारित इस फिल्म की कहानी को खासकर बच्‍चों और युवाओं को ध्‍यान में रखकर बनाया गया है। 

बच्चों के लिए प्रेरणा बनेगी फिल्म
काव्या मूवीज और श्रीअर्थ प्रोडक्शन के बनैर तले बन रही इस फिल्म की शूटिंग मुख्य रूप से गुजरात के अहमदाबाद, वडोदरा और सूरत में हुई है, जहां प्रधानमंत्री का बचपन बीता। बच्चों को ध्यान में रखकर बनाई गई यह फिल्म उनके लिए प्रेरणास्रोत होगी।

नरेंद्र मोदी का 'शून्‍य' से 'शिखर' तक का सफर...

ओंकार दास ने निभाई है भूमिका
फिल्म में प्रधानमत्री नरेंद्र मोदी के पिता का किरदार आमिर खान प्रोडक्शन की फिल्म पीपली लाइव में मुख्य भूमिका निभा चुके ओंकार दास ने किया है। इसके अतिरिक्त अनेशा सैयद, करण पटेल और हीराल मुख्‍य भूमिका में नजर आएंगे, वहीं इस फिल्म का निर्देशन अनिल नरयानी ने किया है। जबकि फिल्म के निर्माता पवन पोद्दार और तान्या शर्मा हैं।

हू नरेंद्र मोदी बनवा मांग छू के लिए चित्र परिणाम

तथ्यों से कोई छेड़छाड़ नहीं
आज देश का हर बच्चा नरेन्द्र मोदी बनना चाहता है। इसी बात की प्रेरणा लेकर फिल्म के निर्देशक अनिल नरयानी ने इस फिल्म को बनाने की ठानी। उन्होंने कहा, ”नरेंद्र मोदी पूरे देश के हीरो हैं। वे अभी देश के लिए बहुत अच्छा कर रहे हैं, वे मेरे भी हीरो हैं। इसलिए मुझे लगा कि श्री मोदी के जीवन के संघर्ष को पर्दे पर लाना चाहिए ताकि उनके व्यक्तिव से भारत की नई पीढ़ी प्रेरणा ले। फिल्म में वही दिखाने की कोशिश की गयी है, जो तथ्यपरक है।”

नरेंद्र मोदी का 'शून्‍य' से 'शिखर' तक का सफर...

17 नवंबर को होगी रिलीज
फिल्म के जरिये दर्शकों को यह बताने की कोशिश की जाएगी कि प्रधानमंत्री देश की भलाई के लिए क्या चाहते हैं, क्यों चाहते हैं और कैसे चाहते हैं। फिल्म में मुख्य रूप से तीन गाने हैं, जो प्रेरक हैं। फिल्म के निर्माता-निर्देशक 17 नंवबर तक गुजरात में रिलीज करना चाहते हैं। इसके साथ ही उनकी योजना है कि फिल्म को विभिन्न भाषाओं में डब किया जाए।

हू नरेंद्र मोदी बनवा मांग छू के लिए चित्र परिणाम

 

Leave a Reply