Home समाचार अंतर्राष्ट्रीय पटल पर भारत के अग्रदूत प्रधानमंत्री मोदी

अंतर्राष्ट्रीय पटल पर भारत के अग्रदूत प्रधानमंत्री मोदी

184
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 2014 में देश का नेतृत्व संभालने के बाद से ही अंतर्राष्ट्रीय पटल पर भारत के अग्रदूत बने हुए हैं। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत का दबदबा लगातार बढ़ रहा है। अंतरराष्ट्रीय संगठनों और मंचों पर भारत की भागीदारी बढ़ी है। प्रधानमंत्री मोदी को अंतर्राष्‍ट्रीय सहयोग और वैश्विक आर्थिक विकास को बढ़ावा देने, आर्थिक विकास को गति देकर लोगों के जीवन स्‍तर को सुधारने तथा भ्रष्‍टाचार निरोधक उपायों और सामाजिक एकता के प्रयासों के जरिए देश में लोकतंत्र को मजबूत बनाने के लिए 2018 के सोल शांति पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया जाएगा।

सोल शांति पुरस्‍कार समिति ने कहा है कि वह भारत सहित वैश्विक अर्थव्‍यवस्‍था के विकास में श्री मोदी के योगदान और गरीब और अमीर के बीच आर्थिक और सामाजिक विषमताओं की खाई पाटने में ‘मोदीनॉमिक्‍स’ के महत्‍व को स्‍वीकार करती है। समिति ने नोटबंदी और भ्रष्‍टाचार निरोधक उपायों के जरिए सरकारी तंत्र को भ्रष्‍टाचार मुक्‍त करने के लिए प्रधानमंत्री द्वारा उठाए गए कदमों की भी सराहना की है। समिति ने ‘मोदी सिद्धांत’ और एक्‍ट ईस्‍ट पॉलिसी’ के माध्‍यम से दुनिया भर के देशों के साथ एक सक्रिय विदेशी नीति के जरिए क्षेत्रीय और वैश्विक शांति के प्रति उनके योगदान को भी स्‍वीकार किया है।

आजादी के बाद देखा जाए तो प्रधानमंत्री मोदी को देश के सभी प्रधानमंत्रियों से अधिक वैश्विक सम्मान मिला है।

सन 2018-
सोल पीस प्राइज- प्रधानमंत्री मोदी को सोल पीस प्राइज 2018 से सम्‍मानित करने के लिए चुना गया। यह सम्‍मान उन्‍हें अंतरराष्‍ट्रीय सहयोग, ग्‍लोबल आर्थिक प्रगति और भारत के लोगों के मानव विकास को तेज करने के लिए प्रतिबद्धता दिखाने पर दिया जा रहा है। दक्षिण कोरिया के सोल पीस प्राइज कल्चरल फाउंडेशन ने अमीरों और गरीबों के बीच सामाजिक और आर्थिक खाई को कम करने के लिए ‘मोदीनॉमिक्स’ की प्रशंसा की है।

चैंपियंस ऑफ द अर्थ- संयुक्त राष्ट्र ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों को सबसे बड़ा पर्यावरण सम्मान ‘चैंपियंस ऑफ द अर्थ’ से सम्मानित किया। पीएम मोदी को यह सम्मान पॉलिसी लीडरशिप कैटेगरी में मिला। इंटरनेशनल सोलर अलायंस और पर्यावरण के मोर्चे पर कई महत्वपूर्ण कार्यों के लिए यूएन ने यह अवॉर्ड दिए।

ग्रैंड कॉलर’ सम्मान- प्रधानमंत्री मोदी को इसी साल फिलिस्तीन के सर्वेश्रेष्ठ सम्मान ‘ग्रैंड कॉलर’ से नवाजा गया है। भारत और फिलिस्तीन के रिश्तों की बेहतरी के लिए श्री मोदी द्वारा उठाए गए कदमों के लिए यह सम्मान दिया गया।

सन 2016-
सैश ऑफ किंग अब्दुल अजीज- प्रधानमंत्री मोदी को 2016 में सऊदी अरब के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘सैश ऑफ किंग अब्दुल अजीज (स्पेशल क्लास) से सम्मानित किया गया।

भारत के अन्य प्रधानमंत्रियों के सम्मान की बात करें तो-

जवाहरलाल नेहरू- 1954 में भारत रत्न सम्मान देने की शुरुआत हुई और पंडित जवाहर लाल नेहरू ने 1955 में खुद को ही भारत रत्न से सम्मानित कर दिया। नेहरू उस समय देश के प्रधानमंत्री थे और उन्होंने यह सम्मान राष्ट्रपति राजेन्द्र प्रसाद के हाथों लिया। इसके अलावा उन्हें कोई अंतरारष्ट्रीय सम्मान नहीं मिला।

इंदिरा गांधी- इंदिरा गांधी ने भी सन 1972 में प्रधानमंत्री के पद पर रहते  खुद को भारत रत्न से सम्मानित कर दिया। इसी साल बांग्लादेश की स्वतंत्रता के लिए मैक्सिकन अकादमी पुरस्कार मिला, जबकि 1973 में एफएओ का दूसरा वार्षिक पदक मिला।

सन 2011 में इंदिरा गांधी को बांग्लादेश के स्वाधीनता संग्राम में योगदान के लिए वहां के सर्वोच्च राजकीय सम्मान ‘बांग्लादेश स्वाधीनता सनमानोना’ से सम्मानित किया गया।

राजीव गांधी- राजीव गांधी को मरोणोपरांत 1991 में भारत रत्न और इंदिरा गांधी शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

डॉ मनमोहन सिंह-पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह को 2014 में जापान के ‘ग्रैंड कॉर्डन ऑफ द ऑर्डर ऑफ द पौलोनिया फ्लॉवर’ और 2010 में अपील ऑफ कनसाइंस फाउंडेशन द्वारा वर्ल्ड स्टैट्समैन अवार्ड दिया गया

LEAVE A REPLY